मोह्पे साईं रंग डाला | Mohpe Sai Rang Daala

साई बाबा का भजन “मोह्पे साईं रंग डाला | Mohpe Sai Rang Daala” भजन, प्रशांत रोकड़े जी का गाया हुआ है। साई बाबा अपने भक्तो पर हमेसा कृपा बनाये रखते है।


Mohpe Sai Rang Daala

शब्द की चोट लगी मेरे मन को
भेद गया ये तन सारा हो मोह्पे साईं रंग डाला

कं कं में जड चेतन में मोहे रूप दिखे इक सुंदर
जिस के बिन मैं जी नही पाओ साईं वसे मेरे अंदर
पूजा अरचन सुमिरन कीर्तन निस दिन करता रहता
सब वैद बुला के मुझे दिखाए रोग नही कोई मिलता
ओश्दी मूल कही नही लागे कया करे वैद विचारा
मोह्पे साईं रंग डाला…

आठ पेहर चोसठ गली मन साईं में है लगता
कोई कहे अनुरागी कोई वैरागी है कहता
भगती सागर में डूबा मैं चुन चुन लाऊ मोती
जीवन में फेलाऊ उजियारा चले अलोकिक ज्योति
सुर नर मुनि और पीर हो लिया कौन परे है पारा
मोह्पे साईं रंग डाला

कैसो रंग रंगा रंग रेजा रंग नही ये मिट ता
इसी रंग जीवन में वारु एसा सुख मोहे मिलता
साईं साईं साईं जीब सदा है रट ती दुनिया मुझको पागल कहती
मैंने पाई भगती
केहत कबीर से रूह रंगियाँ सब रंग से रंग न्यारा
मोह्पे साईं रंग डाला


हमें उम्मीद है की साई बाबा के भक्तो को यह आर्टिकल “मोह्पे साईं रंग डाला | Mohpe Sai Rang Daala” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। Mohpe Sai Rang Daala के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने को कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here