Shani Chalisa

शनि देव को सुख समृदि, वैभव देने वाला देव माना जाता है। पापियों को सजा और ईमानदारों को यश,धन देते है। Shani Chalisa का नियमित पाठ करने से शनिदेव की कृपा बानी रहती है। Shani Dev Chalisa वीडियो, ऑडियो के साथ में हिंदी और इंग्लिश लिरिक्स भी दिए गए है।

Shani Dev Chalisa

शनि चालीसा हिंदी लिरिक्स
Shani Chalisa in Hindi Lyrics

|| दोहा ||

जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल।
दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल॥
जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज।
करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज॥

जयति जयति शनिदेव दयाला।
करत सदा भक्तन प्रतिपाला॥

चारि भुजा, तनु श्याम विराजै।
माथे रतन मुकुट छबि छाजै॥

परम विशाल मनोहर भाला।
टेढ़ी दृष्टि भृकुटि विकराला॥

कुण्डल श्रवण चमाचम चमके।
हिय माल मुक्तन मणि दमके॥

कर में गदा त्रिशूल कुठारा।
पल बिच करैं अरिहिं संहारा॥

पिंगल, कृष्णो, छाया नन्दन।
यम, कोणस्थ, रौद्र, दुखभंजन॥

सौरी, मन्द, शनी, दश नामा।
भानु पुत्र पूजहिं सब कामा॥

जा पर प्रभु प्रसन्न ह्वैं जाहीं।
रंकहुँ राव करैं क्षण माहीं॥

पर्वतहू तृण होई निहारत।
तृणहू को पर्वत करि डारत॥

राज मिलत बन रामहिं दीन्हयो।
कैकेइहुँ की मति हरि लीन्हयो॥

बनहूँ में मृग कपट दिखाई।
मातु जानकी गई चुराई॥

लखनहिं शक्ति विकल करिडारा।
मचिगा दल में हाहाकारा॥

रावण की गति-मति बौराई।
रामचंद्र सों बैर बढ़ाई॥

दियो कीट करि कंचन लंका।
बजि बजरंग बीर की डंका॥

नृप विक्रम पर तुहि पगु धारा।
चित्र मयूर निगलि गै हारा॥

हार नौलखा लाग्यो चोरी।
हाथ पैर डरवायो तोरी॥

भारी दशा निकृष्ट दिखायो।
तेलिहिं घर कोल्हू चलवायो॥

विनय राग दीपक महं कीन्हयों।
तब प्रसन्न प्रभु ह्वै सुख दीन्हयों॥

हरिश्चन्द्र नृप नारि बिकानी।
आपहुं भरे डोम घर पानी॥

तैसे नल पर दशा सिरानी।
भूंजी-मीन कूद गई पानी॥

श्री शंकरहिं गह्यो जब जाई।
पारवती को सती कराई॥

तनिक विलोकत ही करि रीसा।
नभ उड़ि गयो गौरिसुत सीसा॥

पांडव पर भै दशा तुम्हारी।
बची द्रौपदी होति उघारी॥

कौरव के भी गति मति मारयो।
युद्ध महाभारत करि डारयो॥

रवि कहं मुख महं धरि तत्काला।
लेकर कूदि परयो पाताला॥

शेष देव-लखि विनती लाई।
रवि को मुख ते दियो छुड़ाई॥

वाहन प्रभु के सात सुजाना।
जग दिग्गज गर्दभ मृग स्वाना॥

जंबुक सिंह आदि नख धारी।
सो फल ज्योतिष कहत पुकारी॥

गज वाहन लक्ष्मी गृह आवैं।
हय ते सुख सम्पति उपजावैं॥

गर्दभ हानि करै बहु काजा।
सिंह सिद्धकर राज समाजा॥

जम्बुक बुद्धि नष्ट कर डारै।
मृग दे कष्ट प्राण संहारै॥

जब आवहिं प्रभु स्वान सवारी।
चोरी आदि होय डर भारी॥

तैसहि चारि चरण यह नामा।
स्वर्ण लौह चांदी अरु तामा॥

लौह चरण पर जब प्रभु आवैं।
धन जन सम्पत्ति नष्ट करावैं॥

समता ताम्र रजत शुभकारी।
स्वर्ण सर्व सर्व सुख मंगल भारी॥

जो यह शनि चरित्र नित गावै।
कबहुं न दशा निकृष्ट सतावै॥

अद्भुत नाथ दिखावैं लीला।
करैं शत्रु के नशि बलि ढीला॥

जो पंडित सुयोग्य बुलवाई।
विधिवत शनि ग्रह शांति कराई॥

पीपल जल शनि दिवस चढ़ावत।
दीप दान दै बहु सुख पावत॥

कहत राम सुन्दर प्रभु दासा।
शनि सुमिरत सुख होत प्रकाशा॥

|| दोहा ||

पाठ शनिश्चर देव को, की हों ‘भक्त’ तैयार।
करत पाठ चालीस दिन, हो भवसागर पार॥

Shani Chalisa in Hindi Lyrics

Shani Chalisa Lyrics

|| Doha ||

Jai Ganesh Girija Suwan,
Mangal Karan Kripal,
Deenan Ke Dukh Door Kar,
Kije Nath Nihaal||
Jai Jai Shri ShaniDev Prabhu,
Sunahu Vinay Maharaj|
Karahu Kripa Hey Ravi Tanay,
Rakhu Jan Ki Laaj||

Jayati Jayati Shanidev Dayala,
Karat Sada Bhaktan Pratipaala|
Chaari Bhuja, Tanu Shyam Viraaje,
Mathe Ratan Mukut Chhabi Chhaje||

Param Vishaal Manohar Bhaala,
Tedhi Drishti Bhrikuti Vikrala|
Kundal Shravan Chamacham Chamke,
Bhiye Maal Muktan Mani Damke||

Kar Me Gada Trishul Kuthara,
Pal Bich Kare Arinhi Sanhara|
Pingal, Krishno, Chhaya Nandan,
Yam, Konasth, Rodra, Dukhbhanjan||

Sorri, Mand, Shani, Dash Naama,
Bhanu Putra Pujanhi Sab Kaama|
Ja Par Prabhu Prasann Hoye Jaahi,
Rankahu Raav Kare Kshan Maahi|2|

Parvatho Trin Hoye Nirahat,
Trinuhu Ko Parvat Kari Daarat|
Raj Milat Ban Ramahi Dinhyo,
Kaikayihun Ki Mati Hari Linhyo||
Banhu Me Mrig Kapat Dikhayi,
Maatu Jaanki Gayi Churayi|
Lakhanhi Shakti Vikal Karidaara,
Machiga Dal Me Hahakaar||

Ravan Ki Gatmati Borayi,
Ramchandra So Bair Badhayi|
Diyo Keet Kari Kanchan Lanka,
Baji Bajrang Beer Ki Danka||

Nrip Vikram Par Tuhi Pagu Dhaara,
Chitra Mayur Nigli Gai Haara|
Haar Nolakha Lagyo Chori,
Hath Pair Darwayo Tori||

Bhaari Dasha Nikrisht Dikhayo,
Telihi Ghar Kolhu Chalwayo|
Vinay Raag Deepak Mah Kinhyo,
Tab Prasann Prabu Hoye Sukh Deenhyo||

Harishchandra Nrip Naari Bikani,
Aaphu Bhare Dom Ghar Paani|
Taise Nal Par Dasha Seerani,
Bhunjimeen Kood Gayi Paani||

Shri Shankarih Gayo Jab Jaayi,
Paarvati Ko Sati Karayi|
Tanik Vilokat Hi Kari Reesa,
Nabh Udi Gayo Gorisutt Seesa||

Paandav Par Bhay Dasha Tumhari,
Bachi Dropdi Hot Ughaari|
Kourav Ke Bhi Gati Mati Maryo,
Yudh Mahabharat Kari Darayo||

Ravi Kahe Mukh Mahe Dheer Tatkala,
Lekar Kudi Padyo Paatala|
Shesh Devlakhi Vinti Laayi,
Ravi Ko Mukh Te Diyo Chudayi||

Vaahan Prabhu Ke Saat Sajana,
Jag Diggaj Gardabh Mrig Swana|
Jambuk Singh Aadi Nakh Dhaari,
So Fal Jyotish Kehat Pukari||

Gaj Vaahan Lakshmi Grih Aave,
Hay Te sukh Sampati Upjave|
Gardabh Haani Kare Bahu Kaaja,
Singh Sidhkar Raaj Samaja||

Jambuk Budhi Nasth Kare Daare,
Mrig De Kasht Praan Sanhare|
Jab Aavhi Prabhu Swan Sawari,
Chori Aadi Hoye Dar Bhaari||

Taisahi Chaar Charan Yeh Naama,
Swarn Loh Chaandi Aru Taama|
Loh Charan Par Jab Prabhu Aave,
Dhan Jan Sampati Nasht Krave||

Samta Tamra Rajat Subhkari,
Swaran Sarv Sukh Mangal Bhari|
Jo Yeh Shani Charitra Nitt Gaave,
Kabahu Na Dasha Nikat Satave||

Adhbhut Naath Dikhave Leela,
Kare Shatru Ke Nashi Bali Dheela|
Jo Pandit Suyogya Bulwayi,
Vidhivat Shani Greh Shanti Krayi||

Peepal Jal Shani Diwas Chadhavat,
Deep Daan De Bahu Sukh Paavat|
Kehat Ram Sundar Prabhu Daasa,
Shani Sumirat Sukh Hot Prakasha||

|| Doha ||

Paath Shanishchar Dev Ko,
Ki Ho Bhakt Taiyar|
Karat Paath Chalisa Din,
Ho Bhavsaagar Paar||


Shani Chalisa का नियमित पाठ करे। इससे शनिदेव प्रसंन्न होते है और आप पर उनकी कृपा दृष्टि बनी रहती है। उम्मीद है की आपको यह Shani Chalisa शनि देव चालीसा आर्टिकल पसंद आया होगा।

अपने विचार हमे कमेंट करके बताये और इसको शेयर करे ताकि अन्य लोगो को भी शनि भक्ति का सौभाग्य प्राप्त हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here