मेरे सतगुरू तेरी नौकरी सबसे बढ़िया है भजन लिरिक्स | Mere Satguru Teri Naukri Sabse Badhiya Hai Lyrics

गुरुदेव भजन “मेरे सतगुरू तेरी नौकरी सबसे बढ़िया है भजन लिरिक्स | Mere Satguru Teri Naukri Sabse Badhiya Hai Lyrics” – विनोद अग्रवाल जी के द्वारा गाया गया है। इस भजन में गुरु की भक्ति की महिमा का बखान किया गया है।


Mere Satguru Teri Naukri Sabse Badhiya Hai Lyrics

मेरे सतगुरू तेरी नौकरी,
सबसे बढ़िया है सबसे खरी।।

मेरे सतगूरू तेरी नौकरी,
सबसे बढ़िया है सबसे खरी,
तेरे दरबार की हाजरी,
सबसे बढ़िया है सबसे खरी॥

खुशनसीबी का जब गुल खिला,
तब कही जाके ये दर मिला,
हो गई अब तो रहमत तेरी,
सबसे बढ़िया है सबसे खरी॥

मै नही था किसी काम का,
ले सहारा तेरे नाम का,
बन गई अब तो बिगड़ी मेरी,
सबसे बढ़िया है सबसे खरी॥

जबसे तेरा गुलाम हो गया,
तबसे मेरा भी नाम हो गया,
वरना औकात क्या थी मेरी,
सबसे बढ़िया है सबसे खरी॥

मेरी तनख्वाह भी कूछ कम नही,
कूछ मिले ना मिले ग़म नही,
होगी ऐसी कहाँ दुसरी,
सबसे बढ़िया है सबसे खरी॥

इक वीयोगी दीवाना हूँ मै,
खाक चरणों की चाहता हूँ मै,
आखरी ईल्तेजा है मेरी,
सबसे बढ़िया है सबसे खरी॥

मेरे सतगूरू तेरी नौकरी,
सबसे बढ़िया है सबसे खरी,
तेरे दरबार की हाजरी,
सबसे बढ़िया है सबसे खरी॥

Mere Satguru Teri Naukri Sabse Badhiya Hai Lyrics

हमें उम्मीद है की गुरुभक्तो को यह आर्टिकल “मेरे सतगुरू तेरी नौकरी सबसे बढ़िया है भजन लिरिक्स | Mere Satguru Teri Naukri Sabse Badhiya Hai Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। “Mere Satguru Teri Naukri Sabse Badhiya Hai Lyrics” के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने को कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here