shri shiv stuti Header

लाल लंगोटो हाथ में सोटो लिरिक्स | Lal Langoto Hath Me Soto Lyrics

पवन पुत्र हनुमान जी का अति पावन भजन “लाल लंगोटो हाथ में सोटो लिरिक्स | Lal Langoto Hath Me Soto Lyrics” – कुमार ऋषि जी के द्वारा गाया गया है। इस भजन में श्रीराम के सबसे बड़े भक्त हनुमान जी की राम भक्ति बताया गया है।


लाल लंगोटा हाथ में घोटा Lyrics

।। श्लोक ।।
लाल देह लाली लसे,
अरु धर लाल लंगुर,
वज्र देह दानव दलन,
जय जय जय कपि सूत।

लाल लंगोटो हाथ में सोटो,
लाल लंगोटो हाथ मे सोटो,
थारी जय हो पवन कुमार,
मैं वारि जाऊँ बालाजी।।

सालासर थारो देवरो है,
मेहंदीपुर थारो देवरो है,
थारे नोबत बाजे द्वार,
मैं वारि जाऊँ बालाजी।।

चैत्र सुदी पूनम को मेलो,
चैत्र सुदी पूनम को मेलो,
थारे आये भगत हजार,
मैं वारि जाऊँ बालाजी।।

तेल सिंदूर चढ़े तन ऊपर,
तेल सिंदूर चढ़े तन ऊपर,
कोई मंगल और शनिवार,
मैं वारि जाऊँ बालाजी।।

लाल लंगोटो हाथ मे सोटो,
थारी जय जो पवन कुमार,
मैं वारि जाऊँ बालाजी,
थारी जय हो दीनदयाल,
मैं वारि जाऊँ बालाजी।।


Lal Langoto Hath Me Soto Lyrics

।। Shalok ।।
Laal Deh Laali Lase,
Aru Dhar Laal Langur ।
Vajra Deh Danav Dalan,
Jai Jai Jai Kapisur ।।

Lal Langoto Hath Me Soto,
Lal Langoto Hath Me Soto ।
Thari Jai Ho Pawan Kumar,
Main Wari Jaau Balaji ।।

Salasar Tharo Devro Hai,
Mehandipur Tharo Devro Hai ।
Thare Nobat Baaje Dwar,
Main Wari Jaau Balaji ।।

Chetra Sudi Poonam Ko Melo,
Chetra Sudi Poonam Ko Melo ।
Thare Aaye Bhagat Hazaar,
Main Wari Jaau Balaji ।।

Tel Sindoor Chache Tan Upar,
Tel Sindoor Chadhe Tan Uper ।
Koi Mangal Aur Shaniwar,
Main Wari Jaau Balaji ।।

Lal Langoto Hath Me Soto,
Thari Jai Ho Pawan Kumar ।
Main Wari Jaau Balaji,
Thari Jai Ho Deendayal,
Main Wari Jaau Balaji ।।

Lal Langoto Hath Me Soto Bhajan Lyrics

हमें उम्मीद है की श्री राम के भक्त हनुमान जी ये भजन का यह आर्टिकल “लाल लंगोटो हाथ में सोटो लिरिक्स | Lal Langoto Hath Me Soto Lyrics” + Video + Audio बहुत पसंद आया होगा। “लाल लंगोटा हाथ में घोटा Lyrics | Lal Langoto Hath Me Soto Lyrics” भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment