रामायण आवाहन दोहे लिरिक्स | Ramayan Awahan Dohe Lyrics

मर्यादा पुरषोत्तम श्री राम का अति पावन भजन “रामायण आवाहन दोहे लिरिक्स | Ramayan Awahan Dohe Lyrics” – Prem Shakar Pandey ‘Vyas Ji’ के द्वारा गाया गया है। इस भजन में राम भक्ति की महिमा का बखान किया गया है।


Ramayan Awahan Dohe Lyrics

रामायण आवाहन
जेहि सुमिरत सिध्द होय गण नायक करिवर बदन ।
करहुँ अनुग्रह सोई बुध्दि राशि शुभ गुण सदन ॥

मूक होई वाचाल पंगु चढ़ई गिरिवर गहन ।
जासु कृपासु दयालु द्रवहॅुं सकल कलिमल दहन ॥

नील सरोरुह श्याम तरुन अरुन वारिज नयन ।
करहुँ सो मम उर धाम सदा क्षीर सागर सयन ॥

ह्लाुंँद – इंदु सम देह उमा रमन करुणा अयन ।
जाहिं दीन पर नेह करहुँ कृपा मर्दन मयन ॥

बंदहु गुरु पद कंज कृपा सिंधु नर रुप हरि ।
महा मोह तब पुंज जासु वचन रवि कर निकर ॥

बंदहु मुनि पद कंज रामायन जेहि निर मयऊ ।
सखर सुकोमल मंजु दोष रहित दुषन सहित ॥

बंदहु चारहुं वेद भव वारिध वो हित सरिस ।
जिनहिं न सपनेहु खेद वरनत रघुपति विमल यश ॥

वंदहु विधि पद रेनु भव सागर जिन कीन्ह यह ।
संत सुधा शशि धेनु प्रगटे खल विष वारुनी ॥

बंदहु अवध भुआल सत्य प्रेम जेहि राम पद ।
बिछुरत दीन दयाल प्रिय तनु तृन इव पर हरेऊ ॥

बंदहु पवन कुमार खल वन पावक ज्ञान घन ।
जासु हृदय आगार बसहिं राम सर चापधर ॥

राम कथा के रसिक तुम,भक्ति राशि मति धीर ।
आय सो आसन लीजिये, तेज पुंज कपि वीर ॥

रामायण तुलसीकृत कहँऊ कथा अनुसार ।
प्रेम सहित आसन गहँऊ आवहँ पवन कुमार ॥

सियावर रामचंद्र की जय

Ramayan Awahan Dohe Lyrics

हमें उम्मीद है की श्री राम के भक्तो को यह आर्टिकल “रामायण आवाहन दोहे लिरिक्स | Ramayan Awahan Dohe Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। ‘Ramayan Awahan Dohe Lyrics‘ भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here