तन कोई छूता नही चेतन निकल जाने के बाद लिरिक्स | Tan Koi Chhuta Nahi Chetan Nikalne Ke Baad Lyrics

भजन “तन कोई छूता नही चेतन निकल जाने के बाद लिरिक्स | Tan Koi Chhuta Nahi Chetan Nikalne Ke Baad Lyrics” प्रेम भूषण जी का गाया हुआ भजन है। भजन के लिरिक्स हिंदी और इंग्लिश में वीडियो के साथ दिए हुए है।


Tan Koi Chhuta Nahi Chetan Nikalne Ke Baad Lyrics

तन कोई छूता नही,
चेतन निकल जाने के बाद,
फेंक देते है फूल को भी,
खुशबु निकल जाने के बाद,
तन कोई छूता नही,
चेतन निकल जाने के बाद।।

भाग जाते हंस भी,
निर्जल सरोवर देखकर,
छोड़ जाते पेड़ पंछी,
पत्ता झड़ जाने के बाद,
तन कोई छूता नहीं,
चेतन निकल जाने के बाद।।

तबतक रिश्ते नाते रहते,
जबतक पैसा पास में,
छोड़ जाते सगे संबंधी,
दौलत निकल जाने के बाद,
तन कोई छूता नहीं,
चेतन निकल जाने के बाद।।

कहत कबीर सुन मन मूरख,
भजन कर श्री राम का,
घबराएगा पछतायेगा,
यमदूत आ जाने के बाद,
तन कोई छूता नहीं,
चेतन निकल जाने के बाद।।

तन कोई छुता नही,
चेतन निकल जाने के बाद,
फेंक देते है फूल को भी,
खुशबु निकल जाने के बाद,
तन कोई छूता नहीं,
चेतन निकल जाने के बाद।।

Tan Koi Chhuta Nahi Chetan Nikalne Ke Baad Lyrics

हमें उम्मीद है की भक्तो को यह आर्टिकल “तन कोई छूता नही चेतन निकल जाने के बाद लिरिक्स | Tan Koi Chhuta Nahi Chetan Nikalne Ke Baad Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। “ Tan Koi Chhuta Nahi Chetan Nikalne Ke Baad Lyrics ” भजन के आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here