शनि अमृतवाणी लिरिक्स | Shani Amritwani Lyrics

शनि देव को प्रसन्न करने वाली Shani Amritwani का पाठ करने से सब प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है। “शनि अमृतवाणी लिरिक्स | Shani Amritwani Lyrics” की वीडियो,ऑडियो, और लिरिक्स के साथ दिया हुआ है।

Shani Amritwani Lyrics
Shani Dev Ki Amritwani

शनि अमृतवाणी लिरिक्स

भानु लाल शनिश्चरा
करुणा दृष्टि कर,
नतमस्तक विनती करें
हर एक संकट हर ।

महा गृह तू महावली
शक्ति अपरम्पार,
चरण शरण में जो आये
उनका कर उद्धार ।

अपने कु प्रभाव को
हमसे रखियो दूर,
हे रवि नंदन ना करना
शांति दर्पण चूर ।

नटखट क्रोधी देव तुम
चंचल तेरा स्वाभाव,
चिंतक के घर हर्ष का
होना कभी अभाव ।

जय जय जय शनिदेव
जय जय जय शनिदेव

नील वर्ण शनि देवता
रुष्ट ना जाना हो,
अपने भक्तों के सदा
दुःख संताप हरो ।

शुभ दृष्टि दया भाव से
हर प्राणी को देख,
तुझसे थर थर कांपती
हर मस्तक की रेख ।

प्रणय रूप तेरा रूठना
सहन करेगा कौन,
ज्ञानी ध्यानी सब तेरे
सम्मुख रखते मौन ।

सुख संपत्ति का यहाँ
होना कभी विनाश,
भास्कर लला ना हमें
करना कभी निराश ।

जय जय जय शनिदेव
जय जय जय शनिदेव

शनि सोत्र का मन से
करते जो जन पाठ,
उनके गृह में कर सदा
वैभव की बरसात ।

शुभ दृष्टि तेरी मांगते
दिन हीन हम लोग,
दीजो सुख शांति हो
ना शौक वियोग ।

अपने मंद प्रभाव को
रखियो सदा अलोक,
दर दर भिक्षा मांगते
जिनपर हो तेरा कोप ।

चरनन में देव तेरे
त्रिभुवन करे पुकार,
भय, संकट हर कष्ट से
मुक्त रहे संसार ।

जय जय जय शनिदेव
जय जय जय शनिदेव

बाधा हरो हर काज की
बिघ्न का कर समाधान,
तेरे प्रसन्नता से होता
जन जन का कल्याण ।

महा प्रतापी प्रबल वीर
तुझसा कोई ना आथ,
अनुकम्पा हम पर करो
ग्रहों के सिरमोर ।

रुद्रान्तक तेरा रूप है
कृष्ण वर्ण हे नाथ,
हर साधक के सिर पर
करुना का धर हाथ ।

शिव के शिष्य हे देवता
महिमा तेरी महान,
आरोग्य जीवन हो सदा
देना मान सम्मान ।

जय जय जय शनिदेव
जय जय जय शनिदेव
जय जय जय शनिदेव
जय जय जय शनिदेव
जय जय जय शनिदेव

Shani Dev Ki Amritwani

Shani Amritwani Lyrics

Shani Amritwani Lyrics

Bhanu Laal Shanishchara
Karuna Drshti Kar,
Natamastak Vinatee Karen
Har Ek Sankat Har.

Maha Grh Too Mahavalee
Shakti Aparampar,
Charan Sharan Mein Jo Aaye
Unaka Kar Uddhar.

Apane Ku Prabhav Ko
Hamase Rakhiyo Door,
He Ravi Nandan Na Karana
Shaanti Darpan Choor.

Natakhat Krodhee Dev Tum
Chanchal Tera Svabhaav,
Chintak Ke Ghar Harsh Ka
Hona Kabhee Abhav.

Jai Jai Jai Shanidev
Jai Jai Jai Shanidev

Neel Varn Shani Devata
Rusht Na Jana Ho,
Apane Bhakton Ke Sada
Duhkh Santap Haro.

Shubh Drshti Daya Bhav Se
Har Pranee Ko Dekh,
Tujhase Thar Thar Kampatee
Har Mastak Kee Rekh.

Pranay Roop Tera Roothana
Sahan Karega Kaun,
Gyanee Dhyanee Sab Tere
Sammukh Rakhate Maun.

Sukh Sampatti Ka Yahan
Hona Kabhee Vinash,
Bhaskar Lala Na Hamen
Karana Kabhee Nirash.

Jai Jai Jai Shanidev
Jai Jai Jai Shanidev

Shani Sotr Ka Man Se
Karate Jo Jan Paath,
Unake Grh Mein Kar Sada
Vaibhav Kee Barasat.

Shubh Drshti Teree Mangate
Din Heen Ham Log,
Deejo Sukh Shanti Ho
Na Shauk Viyog.

Apane Mand Prabhav Ko
Rakhiyo Sada Alok,
Dar Dar Bhiksha Mangate
Jinapar Ho Tera Kop.

Charanan Mein Dev Tere
Tribhuvan Kare Pukar,
Bhay, Sankat Har Kasht Se
Mukt Rahe Sansar.

Jai Jai Jai Shanidev
Jai Jai Jai Shanidev

Badha Haro Har Kaj Kee
Bighn Ka Kar Samadhaan,
Tere Prasannata Se Hota
Jan Jan Ka Kalyan.

Maha Pratapee Prabal Veer
Tujhasa Koee Na Aath,
Anukampa Ham Par Karo
Grahon Ke Siramor.

Rudrantak Tera Roop Hai
Krishna Varn He Naath,
Har Sadhak Ke Sir Par
Karuna Ka Dhar Hath.

Shiv Ke Shishy He Devata
Mahima Teree Mahan,
Aarogy Jeevan Ho Sada
Dena Maan Samman.

Jai Jai Jai Shanidev
Jai Jai Jai Shanidev
Jai Jai Jai Shanidev
Jai Jai Jai Shanidev
Jai Jai Jai Shanidev

Shani Dev Ki Amritwani


हमें उम्मीद है की शनिदेव के भक्तो को यह आर्टिकल “शनि अमृतवाणी लिरिक्स | Shani Amritwani Lyrics”+ Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। “Shani Dev Ki Amritwani” के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment