मुक्ति का कोई तु जतन करले भजन लिरिक्स | Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Bhajan Lyrics

यह अद्बुध हरी भजन “मुक्ति का कोई तु जतन करले भजन लिरिक्स | Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Bhajan Lyrics” प्रमोद कुमार जी का गाया हुआ है। इस भजन में हरी भक्त भगवन विष्णु के एक बार दर्शन की अभिलाषा व्यक्त कर रहे है।


मुक्ति का कोई तु जतन करले भजन लिरिक्स

मुक्ति का कोई तूँ जतन करले रे ।
रोज थोड़ा थोड़ा हरी का भजन करले ।।

मुक्ति का कोई तूँ जतन करले रे ।।

भक्ति करेगा तो बड़ा ही सुख पाएगा,
भक्ति से आत्मा का मैल छूट जाएगा ।
आत्मा के साथ साथ मन करले रे,
रोज थोड़ा थोड़ा हरी का भजन करले ।।

मुक्ति का कोई तूँ जतन करले रे ।।

संगत कर अच्छे लोगों की,
दवा मिल जाएगी सभी रोगों की ।
ज़िंदगी को अपनी चमन करले रे,
रोज थोड़ा थोड़ा हरी का भजन करले ।।

मुक्ति का कोई तूँ जतन करले रे ।।

मुक्ति का कोई तूँ जतन करले रे ।
रोज थोड़ा थोड़ा हरी का भजन करले ।।

मुक्ति का कोई तूँ जतन करले रे ।।


Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Bhajan Lyrics

Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Re ।
Roj Thoda Thoda Hari Ka Bhajan Karle ।।

Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Re ।।

Bhakti Karega To Bada Hi Sukh Payega,
Bhakti Se Aatma Ka Mail Chhut Jayega ।
Aatma Ke Sath Sath Man Karle Re,
Roj Thoda Thoda Hari Ka Bhajan Karle ।।

Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Re ।।

Sangat Kar Acche Logo Ki,
Dava Mil Jayegi Sabhi Rogo Ki ।
Jindagi Ko Apni Chaman Karle Re,
Roj Thoda Thoda Hari Ka Bhajan Karle ।।

Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Re ।।

Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Re ।
Roj Thoda Thoda Hari Ka Bhajan Karle ।।

Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Re ।।

Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Bhajan Lyrics

हमें उम्मीद है की भगवान विष्णु के भक्तो को यह आर्टिकल “मुक्ति का कोई तु जतन करले भजन लिरिक्स | Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Bhajan Lyrics” + Video + Audio बहुत पसंद आया होगा। “Mukti Ka Koi Tu Jatan Karle Bhajan Lyrics” भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने को कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment