दया धर्म का मूल है दोहा | Daya Dharam Ka Mool Hai


दया धर्म का मूल है दोहा

दया धर्म का मोल है
पाप मूल अभिमान
तुलसी दया ना छाड़िये
जब लग घट में प्राण

काम क्रोध मद लोभ की
जो लो मन में खान
तौलो पंडित मूर्खो
तुलसी एक समान

तुलसी मीठे वचन ते
सुख उपजत चहुँ ओर
वशीकरण एक मन्त्र है
पर हरी वचन कठोर

राम नाम को कल्पत रूप
कली कल्याण निवास
जो सिमरत भय भागते
तुलसी तुलसीदास

तुलसी इस संसार में
भाति भाति के लोग
सबसे हंस मिल बोलिये
नदी नाव संजोग

तुलसी साथी विपती के
विद्या विनय विवेक
साहस सुकृति सुस्ती
व्रत राम भरोसे एक

बिना तेज के पुरुष की
अवश्य अवज्ञा होये
आगी बुझे जो राख की
आप छुए सब कोई

तुलसी असमय को सखा
धीरज धर्म विवेक
सहित सहस सत्य व्रत
राम भरोसो एक


Daya Dharam Ka Mool Hai

Daya Dharm Ka Mol Hai
Paap Mul Abhimaan
Tulsi Daya Na Chhadiye
Jab Lag Ghat Me Praan

Kaam Krodh Mad Lobh Ki
Jo Lo Man Me Khaan
Towlo Pandit Murkho
Tulsi Ek Samaan

Tulasi Mithe Vachan Te
Sukh Upajat Chahun Or
Vashikaran Ek Mantr Hai
Par Hari Vachan Kathor

Ram Naam Ko Kalpat Ruup
Kali Kalyan Nivas
Jo Simarat Bhay Bhagte
Tulsi Tulsidaas

Tulasii Is Samsaar Men
Bhati Bhati Ke Log
Sabase Hans Mil Boliye
Nadi Naav Sanjog

Tulsi Sathi Vipatti Ke
Vidya Vinay Vivek
Sahas Sukriti Susti
Vrat Raam Bharose Ek

Bina Tej Ke Purush Ki
Avashy Avagya Hoye
Aagi Bujhe Jo Raakh Ki
Aap Chhue Sab Koi

Tulsi Asamay Ko Sakha
Dhiraj Dharm Vivek
Sahit Sahas Satya Vrat
Ram Bharoso Ek

Daya Dharam Ka Mool Hai

Daya Dharam Ka Mool Hai PDF

Leave a Comment