Shri Ganesh Stuti | श्री गणेश स्तुती

भगवान गणेश को प्रसन्न करने वाली और भक्तो के कष्टों का निदान करने वाली Shri Ganesh Stuti का नियमित पाठ करने से गणेश जी की कृपा बनी रहती है और हर कार्य में शुभ और लाभ की प्राप्ति होती है। इसके लिरिक्स वीडियो और ऑडियो के साथ दिया गया है।


Shri Ganesh Stuti Lyrics

वन्दे गजेन्द्रवदनं वामाङ्कारूढवल्लभाश्लिष्टम् ।
कुङ्कुमरागशोणं कुवलयिनीजारकोरकापीडम् ॥ १॥

विघ्नान्धकारमित्रं शङ्करपुत्रं सरोजदलनेत्रम् ।
सिन्दूरारुणगात्रं सिन्धुरवक्त्रं नमाम्यहोरात्रम् ॥ २॥

गलद्दानगण्डं मिलद्भृङ्गषण्डं,
लच्चारुशुण्डं जगत्त्राणशौण्डम् ।
लसद्दन्तकाण्डं विपद्भङ्गचण्डं,
शिवप्रेमपिण्डं भजे वक्रतुण्डम् ॥ ३॥

गणेश्वरमुपास्महे गजमुखं कृपासागरं,
सुरासुरनमस्कृतं सुरवरं कुमाराग्रजम् ।
सुपाशसृणिमोदकस्फुटितदन्तहस्तोज्ज्वलं,
शिवोद्भवमभीष्टदं श्रितततेस्सुसिद्धिप्रदम् ॥ ४॥

विघ्नध्वान्तनिवारणैकतरणिर्विघ्नाटवीहव्यवाट्,
विघ्नव्यालकुलप्रमत्तगरुडो विघ्नेभपञ्चाननः ।
विघ्नोत्तुङ्गगिरिप्रभेदनपविर्विघ्नाब्धिकुंभोद्भवः,
विघ्नाघौघघनप्रचण्डपवनो विघ्नेश्वरः पातु नः ॥ ५॥

Shri Ganesh Stuti

गणेश जी की स्तुति श्री गणेश स्तुति आपको पसंद आयी होगी। इसको सबके साथ शेयर करे और उन्हें भी गणेश  जी की भक्ति का सौभाग्य प्रदान करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here