जग के स्वामी को श्री राम कहते है भजन लिरिक्स | Jag Ke Swami Ko Shri Ram Kahte Hai Bhajan Lyrics

मर्यादा पुरषोत्तम श्री राम का अति पावन भजन “जग के स्वामी को श्री राम कहते है भजन लिरिक्स | Jag Ke Swami Ko Shri Ram Kahte Hai Bhajan Lyrics” – राकेश कला जी के द्वारा गाया गया है। इस भजन में राम भक्ति की महिमा का बखान किया गया है।

Jag Ke Swami Ko Shri Ram Kahte Hai Bhajan Lyrics

जग के स्वामी को श्री राम कहते है,
संकट जो काटे उन्हें हनुमान कहते है।।

जब दुनिया वाले तुम्हे ठुकराए,
तो बालाजी का ही नाम बचाए,
जो कोई अपना तो ठोकर लगाए,
बजरंगी बाबा ही पार लगाए,
सच्चे मन से जो इनका ध्यान करते है,
संकट जो काटे उन्हें हनुमान कहते है।।

दुनिया के सारे काम इनके है वश में,
बजरंग जो चाहे हो जाए वो क्षण में,
अष्ट सिद्धि नवनिधि के है दाता,
बल बुद्धि विद्या और भाग्य विधाता,
वेदों के सारे ये ज्ञान कहते है,
संकट जो काटे उन्हें हनुमान कहते है।।

निर्धन को मेरे बाबा धनवान करते,
निर्बल को मेरे बाबा बलवान करते,
तन की पीड़ा सारे रोग मिटाते,
अटकी भवर में नैया पार लगाते,
इनके मन मंदिर में श्री राम रहते है,
संकट जो काटे उन्हें हनुमान कहते है।।

जग के स्वामी को श्री राम कहते है,
संकट जो काटे उन्हें हनुमान कहते है।।

Jag Ke Swami Ko Shri Ram Kahte Hai Bhajan Lyrics

हमें उम्मीद है की श्री राम के भक्तो को यह आर्टिकल “जग के स्वामी को श्री राम कहते है भजन लिरिक्स | Jag Ke Swami Ko Shri Ram Kahte Hai Bhajan Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। ‘Jag Ke Swami Ko Shri Ram Kahte Hai Bhajan Lyrics‘ भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here