मोरी टेर सुनो ब्रज के वासी लिरिक्स | Mori Ter Suno Braj Ke Wasi Lyrics

कृष्ण भगवान का यह अद्बुध भजन “मोरी टेर सुनो ब्रज के वासी लिरिक्स | Mori Ter Suno Braj Ke Wasi Lyrics राजेंद्र प्रसाद सोनी जी के द्वारा गाया हुआ है। भजन के लिरिक्स हिंदी और इंग्लिश में वीडियो के साथ दिए हुए है।


Mori Ter Suno Braj Ke Wasi Lyrics

मोरी टेर सुनो ब्रज के वासी,
ओ गोवर्धन गिरधारी ।।

आये हैं हम तेरे द्वारे,
टेर सुनो यशोदा के प्यारे,
चल न कंटक पथ पर,
चलते चलते ये पग हारे ।।

विनय सुनो मोरी बनवारी,
गोवर्धन गिरधारी,
मोरी टेर सुनो ब्रज के वासी,
ओ गोवर्धन गिरधारी ।।

अश्रुधार सींच रहा हूँ ,
है गिरधारी चरण तुम्हारे,
कौन खबर ले तुम बिन मोरी,
कौन हमारी विपदा टारे ।।

है करुनाकर जग हितकारी,
गोवर्धन गिरधारी,
मोरी टेर सुनो ब्रज के वासी,
ओ गोवर्धन गिरधारी ।।

भक्ति भाव की माला है बस,
और नहीं कुछ पास हमारे,
तुमसा डेटा छोड़ के है हरि,
किसके जाऊं पाव पखारे ।।

राजेन्द्र तुम है बलिहारी,
गोवर्धन गिरधारी,
मोरी टेर सुनो ब्रज के वासी,
ओ गोवर्धन गिरधारी।।

Mori Ter Suno Braj Ke Wasi Lyrics

हमें उम्मीद है की श्री कृष्ण के भक्तो को यह आर्टिकल “मोरी टेर सुनो ब्रज के वासी लिरिक्स | Mori Ter Suno Braj Ke Wasi Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। “Mori Ter Suno Braj Ke Wasi Lyrics” भजन के आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment

आरती : जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी