मंगल भवन अमंगल हारी लिरिक्स | Mangal Bhawan Amangal Haari Lyrics

मर्यादा पुरषोत्तम श्री राम का अति पावन भजन “मंगल भवन अमंगल हारी लिरिक्स | Mangal Bhawan Amangal Haari Lyrics” – रविंद्र जैन जी के द्वारा गाया गया है। इस भजन में राम भक्ति की महिमा का बखान किया गया है।


मंगल भवन अमंगल हारी लिरिक्स

मंगल भवन अमंगल हारी
द्रबहु सुदसरथ अचर बिहारी
सीता राम चरित अति पावन
मधुर सरस अरु अति मनभावन

पुनि पुनि कितनेहू सुने सुनाये
हिय की प्यास भुझत न भुझाये


Mangal Bhawan Amangal Haari Lyrics

Mangal Bhavan Amangal Haari
Drawahu Su Dashrath Achar Bihari

Sitaram Charit Ati Pavan
Madhur Saras Aur Ati Mann Bhavan

Puni Puni Kitane Ho Sune Sunaye
Phir Bhi Pyaas Bujhat Na Bujhaye

Mangal Bhawan Amangal Haari Lyrics

Mangal Bhawan Amangal Haari Lyrics PDF


हमें उम्मीद है की श्री राम के भक्तो को यह आर्टिकल “मंगल भवन अमंगल हारी लिरिक्स | Mangal Bhawan Amangal Haari Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। “Ramayan Song Lyrics | Ramayan Title Song Lyrics | Lyrics Of Mangal Bhawan Amangal Haari” भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment

आरती : जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी