मन में बसाकर तेरी मूर्ति कृष्ण भजन लिरिक्स | Man Me Basakar Teri Murti Krishna Bhajan Lyrics

कृष्ण भगवान का यह अद्बुध भजन “मन में बसाकर तेरी मूर्ति कृष्ण भजन लिरिक्स | Man Me Basakar Teri Murti Krishna Bhajan Lyrics” दीपिका पांडेय जी के द्वारा गाया हुआ है। भजन के लिरिक्स हिंदी और इंग्लिश में वीडियो के साथ दिए हुए है।


Man Me Basakar Teri Murti Krishna Bhajan Lyrics

मन में बसाकर तेरी मूर्ति,
उतारू में गिरधर तेरी आरती।।

करुणा करो कष्ट हरो ज्ञान दो भगवन,
भव में फसी नाव मेरी तार दो भगवन,
करुणा करो कष्ट हरो ज्ञान दो भगवन,
भव में फसी नाव मेरी तार दो भगवन,
दर्द की दवा तुम्हरे पास है,
जिंदगी दया की है भीख मांगती,
मन मे बसाकर तेरी मूर्ति,
उतारू में गिरधर तेरी आरती।।

मांगु तुझसे क्या में यही सोचु भगवन,
जिंदगी जब तेरे नाम करदी अर्पण,
मांगु तुझसे क्या में यही सोचु भगवन,
जिंदगी जब तेरे नाम करदी अर्पण,
सब कुछ तेरा कुछ नहीं मेरा,
चिंता है तुझको प्रभु संसार की,
मन मे बसाकर तेरी मूर्ति,
उतारू में गिरधर तेरी आरती।।

वेद तेरी महिमा गाये संत करे ध्यान,
नारद गुणगान करे छेड़े वीणा तान,
वेद तेरी महिमा गाये संत करे ध्यान,
नारद गुणगान करे छेड़े वीणा तान,
भक्त तेरे द्वार करते है पुकार,
दास अनिरुद्ध तेरी गाये आरती,
मन में बसाकर तेरी मूर्ति,
उतारू में गिरधर तेरी आरती।।

Man Me Basakar Teri Murti Krishna Bhajan Lyrics

हमें उम्मीद है की श्री कृष्ण के भक्तो को यह आर्टिकल “मन में बसाकर तेरी मूर्ति कृष्ण भजन लिरिक्स | Man Me Basakar Teri Murti Krishna Bhajan Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। “ Man Me Basakar Teri Murti Krishna Bhajan Lyrics ” भजन के आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here