Hanuman Bajrang Baan – बजरंग बाण

हनुमान जी अपने सभी भक्तो का कल्याण करते है और उनकी पीड़ा हर लेते है। Hanuman Bajrang Baan का पाठ किया जाये तो हनुमान जी की कृपा दृष्टि बनी रही है। इसीलिए उन्हें संकटमोचन हनुमान भी कहा जाता है। इसका पाठ केवल विषम परिस्थितियों में ही करना चाहिए। bajrang baan lyrics, PDF, और वीडियो इस आर्टिकल में दिए गए है।


Bajrang Baan Lyrics Hindi

निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान
तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान♪

♪जय हनुमंत संत हितकार, सुन लीजै प्रभु अरज हमारी
जन के काज बिलंब न कीजै, आतुर दौरि महा सुख दीजै♪

जैसे कूदि सिंधु महिपारा, सुरसा बदन पैठि बिस्तारा
आगे जाय लंकिनी रोका, मारेहु लात गई सुरलोका
जाय बिभीषन को सुख दीन्हा, सीता निरखि परमपद लीन्हा
बाग उजारि सिंधु महँ बोरा, अति आतुर जमकातर तोरा♪

♪अक्षय कुमार मारि संहारा, लूम लपेटि लंक को जारा
लाह समान लंक जरि गई, जय-जय धुनि सुरपुर नभ भई
अब बिलंब केहि कारन स्वामी, कृपा करहु उर अंतरयामी
जय-जय लखन प्रान के दाता, आतुर ह्वै दुख करहु निपाता

♪जय हनुमान जयति बल-सागर, सुर-समूह-समरथ भट-नागर
ॐ हनु-हनु-हनु हनुमंत हठीले, बैरिहि मारु बज्र की कीले
ॐ ह्नीं ह्नीं ह्नीं हनुमंत कपीसा, ॐ हुं हुं हुं हनु अरि उर सीसा
जय अंजनि कुमार बलवंता, शंकरसुवन बीर हनुमंता

♪बदन कराल काल-कुल-घालक, राम सहाय सदा प्रतिपालक
भूत, प्रेत, पिसाच निसाच,र अगिन बेताल काल मारी मर
इन्हें मारु, तोहि सपथ राम की, राखु नाथ मरजाद नाम की
सत्य होहु हरि सपथ पाइ कै, राम दूत धरु मारु धाइ कै

♪जय-जय-जय हनुमंत अगाधा, दुख पावत जन केहि अपराधा
पूजा जप तप नेम अचारा, नहिं जानत कछु दास तुम्हारा
बन उपबन मग गिरि गृह माहीं, तुम्हरे बल हौं डरपत नाहीं
जनकसुता हरि दास कहावौ, ताकी सपथ बिलंब न लावौ

♪जै जै जै धुनि होत अकासा, सुमिरत होय दुसह दुख नासा
चरन पकरि, कर जोरि मनावौं, यहि औसर अब केहि गोहरावौं
उठु, उठु, चलु, तोहि राम दुहाई, पायँ परौं, कर जोरि मनाई
ॐ चं चं चं चं चपल चलंता, ॐ हनु हनु हनु हनु हनुमंता

♪ॐ हं हं हाँक देत कपि चंचल, ॐ सं सं सहमि पराने खल-दल
अपने जन को तुरत उबारौ, सुमिरत होय आनंद हमारौ
यह बजरंग-बाण जेहि मारै, ताहि कहौ फिरि कवन उबारै
पाठ करै बजरंग-बाण की, हनुमत रक्षा करै प्रान की

♪यह बजरंग बाण जो जापैं, तासों भूत-प्रेत सब कापैं
धूप देय जो जपै हमेसा, ताके तन नहिं रहै कलेसा
ताके तन नहिं रहै कलेसा

उर प्रतीति दृढ़, सरन ह्वै, पाठ करै धरि ध्यान
उबाधा सब हर, करैं सब काम सफल हनुमान♪

Bajrang Baan

Bajrang Baan Lyrics

Nischay Prem Pratiti Te
Vinay Kare Samman
Tehi Ke Karaj Sakal Subh
Sidhi Kare Hanuman
 
Jai Hanuman Sant Hitkari
Sun Leejai Prabhu Araj Hamari
Jan Ke Kaja Vilam Na Kijei
Aatur Dauri Maha Sukh Dijai

Jaise Kudi Sindhu Ke Paara
Sursa Badan Paithi Bistara
Aage Jahi Lankni Roka
Marehi Laat Gayisura Loka
Jahe Vibhishana Ko Sukha Dinha
Sita Nirakhi Param Pad Linha
Baag Ujari Sindhu Maha Bo Ra
Ati Aatur Jam Katar Tora

Akshay Kumar Mari Mar Sanhara
Lum Lapeti Lank Ko Jara
Lah Saman Lank Jari Gayi
Jai Jai Dhuni Sur Purnabh Bhayi
Ab Vilamb Kehi Kaaran Swami
Kripa Karahu Ur Antarjami
Jai Jai Lakhan Pran Ke Daata
Aatur Bhay Dukh Karhun  Nipata

Jai Hanuman Jayti Bal Saagar
Sur Sangh Samrat Bhatnagar
Om Hanu Hanu Hanu Hanumant Hathiley
Bairi Hi Mari Bajar Ki Kinhay
Om Hreem Hreem Hreem Hanumant Kapisa
Om Hoom Hoom Hoom Hanu Ar Ura Shisha
Jai Anjani Kumar Balwanta
Sankat Suvan Veer Hanumanta

Badan Karal Kaal Kul Ghalak
Ram Shahay Paad Pratipalak
Bhoot Pret Pishach Nishachar
Agni Kaal Beital Maarimar 
Inje Maru Tohe Shapath Ram Ki
Rakhu Nath Marajada Nam Ki
Satya Hou Hari Shapath Payike
Ramdoot Dharu Maru Dhayi Ke

Jai Jai Jai Hanumant Agadha
Dukh Pavat Jan Kehi Apradha
Puja Jap Tap Nem Achara
Nahi Janat Kachu Das Tumhara
Van Upavan Mag Giri Grih Mahi
Tumhre Bal Hum Darpat Nahi
Janak Suta Haridas Kahavo
Taki Sapath Vilambh Na Lao

Jai Jai Jai Dhuni Hot Akasha
Sumirath Hoy Dasha Dukh Nasha
Charan Pakar Kari Jori Manava
Yehi Avsar Ab Kehi Gohravan
Uth Uth Chali Tohin Ram Duhai
Punya Paraun Kar Jori Manai
Om Cham Cham Cham Cham Cham Chapalta
Om Hanu Hanu Hanu Hanu Hanumanta

Om Han Han Hanka Deta Kapi Chanchal
Om San San Shami Paran Khal Dala
Apne Jan Ko Turat Ubaro
Sumirath Hoy Ananda Hamaro
Yehi Bajrang Baan Jehi Maro
Tahi Kaho Phir Kahan Ubaro
Path Kare Bajran Baan Ki
Hanumat Raksha Kare Pran Ki

Yah Bajrann Baan Jo Jaape
Tahe Bhoot Pret Sab Kaanpe
Dhoop Dei Jo Jape Hamesha
Take Tan Nahi Rahe Kalesha
Take Tan Nahi Rahe Kalesha

Ur Prateei Dridh Sharan Bhay
Path Kare Dhri Dhar Dhyana
Badha Sab Har Kare..
Sab Kaam Safal Hanuman.


Bajrang Baan PDF Download


Bajrang baan benefits

गोस्वामी तुलसीदास जी ने विनय पत्रिका में बताया है की जिस पर हनुमान जी की कृपा होती है उस पर भगवन शिव, माता पार्वती, प्रभु श्री राम, माता सहित और लक्ष्मण जी की भी कृपा बनी रहती है। हनुमान जो अपने भक्तो के सभी संकटो का विनाश करते है इसलिए उन्हें संकटमोचन हनुमान भी कहा जाता है। हनुमान चालीसा का पाठ उनका हर एक भक्त करता है। अगर उसके साथ में बजरंग बाण का पाठ भी किया जाये तो उनकी सभी प्रकार की समस्याओ और कथा का निवारण राम भक्त हनुमान कर देते है।

अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में मांगलिक दोष होता है तो विवाह के समय भोत परेशानियो का सामना करना पड़ता है। अगर मंगलवार के दिन Bajrang Baan Path किया जाये तो इस दोष का निवारण हो जाता है।

राहु-केतु ग्रहो का प्रभाव जिस भी प्राणी पर होता है उसको भोत सरे कष्टों का समन्ना करना पड़ता है। ऐसे में Bajrang Baan Path करना फलदायी होता है।

राहुकाल में Bajrang Baan का पाठ करने से रोगो का निवारण होता है।

किस भी प्रकार का गृह दोष होने पर Bajrang Baan का पाठ करने से गृह दोष कम होता है।

What is Bajrang Baan ?

बजरंग बाण गोस्वामी तुलसीदास के द्वारा रचित है। विषम परिस्थितियों में इसका पाठ करने से सभी प्रकार के संकटो ने निजात मिलती है।

Who Wrote bajrang Baan ?

बजरंग बाण गोस्वामी तुलसीदास के द्वारा रचित है।

हमें उम्मीद है की सभी हनुमान भक्तो को यह आर्टिकल Bajrang Baan Path Lyrics + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here