राम जैसा नगीना नहीं लिरिक्स | Ram Jaisa Nagina Nahi Lyrics

मर्यादा पुरषोत्तम श्री राम का अति पावन भजन “राम जैसा नगीना नहीं लिरिक्स | Ram Jaisa Nagina Nahi Lyrics” – रविंद्र जैन जी के द्वारा गाया गया है। इस भजन में राम भक्ति की महिमा का बखान किया गया है।


Ram Jaisa Nagina Nahi Lyrics

राम जैसा नगीना नहीं,
सारे जग की बजरिया में,
नीलमणि ही जड़ाऊँगी,
अपने मन की मुंदरियाँ मे,
राम जैसा नगीना नही,
सारे जग की बजरिया में॥

राम का नाम प्यारा लगे,
रसना पे बिठाऊँगी मैं,
मृदु मूरत बसाऊँगी,
नैनों की पुतरिया में,
राम जैसा नगीना नही,
सारे जग की बजरिया में॥

है झूठे सभी रिश्ते,
और झूठे सभी नाते,
दूजा रंग न चढ़ाऊँगी,
अपनी श्यामल चदरिया में,
राम जैसा नगीना नही,
सारे जग की बजरिया में॥

जल्दी से जतन करके,
राघव को रिझाना है,
कुछ दिन ही तो रहना है,
काया की कोठरिया में,
राम जैसा नगीना नही,
सारे जग की बजरिया में…..

Ram Jaisa Nagina Nahi Lyrics

हमें उम्मीद है की श्री राम के भक्तो को यह आर्टिकल राम जैसा नगीना नहीं लिरिक्स | Ram Jaisa Nagina Nahi Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। ‘Ram Jaisa Nagina Nahi Lyrics‘ भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment