मत कर मोह तू हरी भजन को मान रे लिरिक्स | Mat Kar Moh Tu Hari Bhajan Ko Maan Re

अद्बुध भजनMat Kar Moh Tu Hari Bhajan Ko Maan Re | मत कर मोह तू हरी भजन को मान रे” अनूप जलोटा का गाया हुआ है। इस भजन में बताया गया है की हरी का नाम ही सच्चा है बाकि सब तो मोह माया है।


मत कर मोह तू हरी भजन को मान रे

मत कर मोह तू,
हरि भजन को मान रे तू ।

हरि भजन को मान रे तू…

नयन दिए दर्शन करने को,
श्रवण दिए सुन ज्ञान रे ।

हरि भजन को मान रे तू…

वदन दिया हरि गुण गाने को,
हाथ दिए कर दान रे ।

हरि भजन को मान रे तू…

कहत कबीर सुनो भाई साधो,
कंचन निपजत खान रे ।

हरि भजन को मान रे तू…


Mat Kar Moh Tu Hari Bhajan Ko Maan Re

Mat Kar Moh Tu ।
Hari Bhajan Ko Man Re Tu ।।

Hari Bhajan Ko Maan Re Tu ।।

Nayan Diiye Darshan Karne Ko ।
Shrawan Diye Gyan Sunne Ko ।।

Hari Bhajan Ko Maan Re Tu ।।

Vadan Diya Hari Gun Gaane Ko ।
Haath Diye Kar Daan Re ।।

Hari Bhajan Ko Maan Re Tu ।।

Kahat Kabir Suno Bhai Saadho ।
Kanchan Nipjat Khaan Re ।।

Hari Bhajan Ko Maan Re Tu ।।

Mat Kar Moh Tu Hari Bhajan Ko Maan Re

हमें उम्मीद है की श्री कृष्ण के भक्तो को यह आर्टिकल Mat Kar Moh Tu Hari Bhajan Ko Maan Re | मत कर मोह तू हरी भजन को मान रे + Video + Audio बहुत पसंद आया होगा। आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने को कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment