Kaun Hai Tu Kaha Se Hai Aaya Lyrics


Kaun Hai Tu Kaha Se Hai Aaya Lyrics

कौन है तू ओ कौन है तू कौन है तू कहाँ से है आया
अब भी समय है सोच ले बंदे
कौन है तू कहाँ से है आया और तेरा ठिकाना कहाँ है
जा रहा है कहा और पगले सोच ले तुझको जाना कहाँ है
कौन है तू कहाँ से है आया अब तेरा ठिकाना कहाँ है

बाज बनके तू क्यूँ उड़ रहा है आसमान से तू क्यों जुड़ रहा है
अरे अब भी समय है पगले अपना जीवन सुधार ले
बाज बनके तू क्यूँ उड़ रहा है आसमान से तू क्यों जुड़ रहा है
आसमानो के हो आसमानो के
आसमानो के ओ उड़ने वाले सोच ले तेरा खाना कहाँ है
कौन है तू कहाँ से है आया अब तेरा ठिकाना कहाँ है

कुछ पलो की है तेरी जवानी कुछ पलो की है तेरी कहानी
ये जवानी और ये कहानी बस थोड़े ही दिनों की है
कुछ पलो की है तेरी जवानी कुछ पलो की है तेरी कहानी
रोज क्यूँ ख़ाक रोज क्यूँ खान
अरे ये शरीर मिटटी है इस पर कभी घमंड मत करना
रोज क्यूँ ख़ाक तू छानता है सोच तू की खजाना कहाँ है
कौन है तू कहाँ से है आया अब तेरा ठिकाना कहाँ है

तू किधर दिल लगाने चला है क्या था पाना क्या पाने चला है
अरे दिल लगाना है तो प्रभु से लगाओ
तू किधर दिल लगाने चला है क्या था पाना क्या पाने चला है
सोच ले दिल से हो सोच ले दिल से
अरे जनम सफल सिर्फ प्रभु की शरण में ही होगा
सोच ले दिल लगाने से पहले अपने दिल को लगाना कहाँ है
कौन है तू कहाँ से है आया अब तेरा ठिकाना कहाँ है

कौन है तू ओ कौन है तू कौन है तू कहाँ से है आया
अब भी समय है सोच ले बंदे
कौन है तू कहाँ से है आया और तेरा ठिकाना कहाँ है
जा रहा है कहा और पगले सोच ले तुझको जाना कहाँ है
कौन है तू कहाँ से है आया और तेरा ठिकाना कहाँ है

Kaun Hai Tu Kaha Se Hai Aaya Lyrics

Leave a Comment