Gaiye Ganpati Jagvandan Lyrics

भगवान गणेश का “गाइये गणपति जगवंदन लिरिक्स | Gaiye Ganpati Jagvandan Lyrics” जगजीत सिंह जी के द्वारा गाया हुआ है। इस वंदना में गणेश जी का अपने कारज में आमंत्रित किया जा रहा और उन्हें प्रसन्न किया जा रहा है।


गाइये गणपति जगवंदन लिरिक्स

गाइये गणपति जगवंदन |
शंकर सुवन भवानी के नंदन ॥

सिद्धि सदन गजवदन विनायक |
कृपा सिंधु सुंदर सब लायक ॥

मोदक प्रिय मुद मंगल दाता |
विद्या बारिधि बुद्धि विधाता ॥

मांगत तुलसीदास कर जोरे |
बसहिं रामसिय मानस मोरे ॥

Gaiye Ganpati Jagvandan Lyrics

Gaiye Ganpati Jagvandan Lyrics

Gaiye Ganpati Jagvandan |
Shankar Suvan Bhawani Ke Nandan ॥

Siddhi Sadan Jagvadan Vinayak |
Kripa Sindhu Sundar Sad Laayak ॥

Modak Priya Mud Mangal Daata |
Vidhya Baridhi Biddhi Vidhata ॥

Maangat Tulsidas Kar Jore |
Basahi Ramsiy Manas More ॥


हमें उम्मीद है की गणेश जी के भक्तो को यह आर्टिकल गाइये गणपति जगवंदन लिरिक्स | Gaiye Ganpati Jagvandan Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here