भज गोविन्दम लिरिक्स | Bhaja Govindam Lyrics

भज गोविन्दम 8वी शताब्दी का एक लोकप्रिय भक्ति गीत है। जिसकी रचना आदि शंकराचार्य ने की थी। इसमें भगवान गोविंद के प्रति भक्ति, समर्पण, के बारे में बताया गया है। Bhaja Govindam Lyrics निचे दिए गए है हिंदी और इंग्लिश दोनों में।

Bhaja Govindam Lyrics

भजगोविन्दं भजगोविन्दं गोविन्दं भज मूढमते ।
संप्राप्ते सन्निहिते काले नहि नहि रक्षति डुकृञ्करणे ॥ १ ॥

मूढ जहीहि धनागमतृष्णां कुरु सद्बुद्धिं मनसि वितृष्णाम् ।
यल्लभसे निजकर्मोपात्तं वित्तं तेन विनोदय चित्तम् ॥ २ ॥

नारीस्तनभर नाभीदेशं दृष्ट्वा मागामोहावेशम् ।
एतन्मांसावसादि विकारं मनसि विचिन्तय वारं वारम् ॥ ३ ॥

नलिनीदलगत जलमतितरलं तद्वज्जीवितमतिशयचपलं ।
विद्धि व्याध्यभिमानग्रस्तं लोकं शोकहतं च समस्तम् ॥ ४ ॥

यावद्वित्तोपार्जन सक्तः तावन्निज परिवारो रक्तः ।
पश्चाज्जीवति जर्जर देहे वार्तां कोऽपि न पृच्छति गेहे ॥ ५ ॥

यावत्पवनो निवसति देहे तावत्पृच्छति कुशलं गेहे ।
गतवति वायौ देहापाये भार्या बिभ्यति तस्मिन्काये ॥ ६ ॥

बालस्तावत्क्रीडासक्तः तरुणस्तावत्तरुणीसक्तः ।
वृद्धस्तावत्चिन्तासक्तः परे ब्रह्मणि कोऽपि न सक्तः ॥ ७ ॥

काते कान्ता कस्ते पुत्रः संसारोऽयमतीव विचित्रः ।
कस्य त्वं कः कुत आयातः तत्त्वं चिन्तय तदिह भ्रातः ॥ ८ ॥

सत्सङ्गत्वे निस्सङ्गत्वं निस्सङ्गत्वे निर्मोहत्वम् ।
निर्मोहत्वे निश्चलतत्त्वं निश्चलतत्त्वे जीवन्मुक्तिः ॥ ९ ॥

वयसिगते कः कामविकारः शुष्के नीरे कः कासारः ।
क्षीणेवित्ते कः परिवारः ज्ञाते तत्त्वे कः संसारः ॥ १० ॥

मा कुरु धन जन यौवन गर्वं हरति निमेषात्कालः सर्वम् ।
मायामयमिदमखिलं हित्वा ब्रह्मपदं त्वं प्रविश विदित्वा ॥ ११ ॥

दिनयामिन्यौ सायं प्रातः शिशिरवसन्तौ पुनरायातः ।
कालः क्रीडति गच्छत्यायुः तदपि न मुञ्चत्याशावायुः ॥ १२ ॥

द्वादशमञ्जरिकाभिरशेषः कथितो वैयाकरणस्यैषः ।
उपदेशोऽभूद्विद्यानिपुणैः श्रीमच्छङ्करभगवच्छरणैः ॥ १२अ ॥

काते कान्ता धन गतचिन्ता वातुल किं तव नास्ति नियन्ता ।
त्रिजगति सज्जन सङ्गतिरेका भवति भवार्णवतरणे नौका ॥ १३ ॥

जटिलो मुण्डी लुञ्छितकेशः काषायाम्बरबहुकृतवेषः ।
पश्यन्नपि चन पश्यति मूढः उदरनिमित्तं बहुकृतवेषः ॥ १४ ॥

अङ्गं गलितं पलितं मुण्डं दशनविहीनं जतं तुण्डम् ।
वृद्धो याति गृहीत्वा दण्डं तदपि न मुञ्चत्याशापिण्डम् ॥ १५ ॥

अग्रे वह्निः पृष्ठेभानुः रात्रौ चुबुकसमर्पितजानुः ।
करतलभिक्षस्तरुतलवासः तदपि न मुञ्चत्याशापाशः ॥ १६ ॥

कुरुते गङ्गासागरगमनं व्रतपरिपालनमथवा दानम् ।
ज्ञानविहिनः सर्वमतेन मुक्तिं न भजति जन्मशतेन ॥ १७ ॥

सुर मन्दिर तरु मूल निवासः शय्या भूतलमजिनं वासः ।
सर्व परिग्रह भोग त्यागः कस्य सुखं न करोति विरागः ॥ १८ ॥

योगरतो वा भोगरतोवा सङ्गरतो वा सङ्गविहीनः ।
यस्य ब्रह्मणि रमते चित्तं नन्दति नन्दति नन्दत्येव ॥ १९ ॥

भगवद् गीता किञ्चिदधीता गङ्गा जललव कणिकापीता ।
सकृदपि येन मुरारि समर्चा क्रियते तस्य यमेन न चर्चा ॥ २० ॥

पुनरपि जननं पुनरपि मरणं पुनरपि जननी जठरे शयनम् ।
इह संसारे बहुदुस्तारे कृपयाऽपारे पाहि मुरारे ॥ २१ ॥

रथ्या चर्पट विरचित कन्थः पुण्यापुण्य विवर्जित पन्थः ।
योगी योगनियोजित चित्तो रमते बालोन्मत्तवदेव ॥ २२ ॥

कस्त्वं कोऽहं कुत आयातः का मे जननी को मे तातः ।
इति परिभावय सर्वमसारं विश्वं त्यक्त्वा स्वप्न विचारम् ॥ २३ ॥

त्वयि मयि चान्यत्रैको विष्णुः व्यर्थं कुप्यसि मय्यसहिष्णुः ।
भव समचित्तः सर्वत्र त्वं वाञ्छस्यचिराद्यदि विष्णुत्वम् ॥ २४ ॥

शत्रौ मित्रे पुत्रे बन्धौ मा कुरु यत्नं विग्रहसन्धौ ।
सर्वस्मिन्नपि पश्यात्मानं सर्वत्रोत्सृज भेदाज्ञानम् ॥ २५ ॥

कामं क्रोधं लोभं मोहं त्यक्त्वाऽत्मानं भावय कोऽहम् ।
आत्मज्ञान विहीना मूढाः ते पच्यन्ते नरकनिगूढाः ॥ २६ ॥

गेयं गीता नाम सहस्रं ध्येयं श्रीपति रूपमजस्रम् ।
नेयं सज्जन सङ्गे चित्तं देयं दीनजनाय च वित्तम् ॥ २७ ॥

सुखतः क्रियते रामाभोगः पश्चाद्धन्त शरीरे रोगः ।
यद्यपि लोके मरणं शरणं तदपि न मुञ्चति पापाचरणम् ॥ २८ ॥

अर्थमनर्थं भावय नित्यं नास्तिततः सुखलेशः सत्यम् ।
पुत्रादपि धन भाजां भीतिः सर्वत्रैषा विहिता रीतिः ॥ २९ ॥

प्राणायामं प्रत्याहारं नित्यानित्य विवेकविचारम् ।
जाप्यसमेत समाधिविधानं कुर्ववधानं महदवधानम् ॥ ३० ॥

गुरुचरणाम्बुज निर्भर भक्तः संसारादचिराद्भव मुक्तः ।
सेन्द्रियमानस नियमादेवं द्रक्ष्यसि निज हृदयस्थं देवम् ॥ ३१ ॥

मूढः कश्चन वैयाकरणो डुकृञ्करणाध्ययन धुरिणः ।
श्रीमच्छङ्कर भगवच्छिष्यै बोधित आसिच्छोधितकरणः ॥ ३२ ॥

भजगोविन्दं भजगोविन्दं गोविन्दं भजमूढमते ।
नामस्मरणादन्यमुपायं नहि पश्यामो भवतरणे ॥ ३३ ॥

इति भजगोविन्दं संपूर्णम्

Bhaja Govindam Lyrics

Bhaja Govindam Lyrics In English

Bhaja Govindam Bhaja Govindam
Govindaṁ Bhaja MūḍHa-mate |
SaṁPrāpte Sannihite Kāle
Nahi Nahi RakṣAti ḍUkṛÑ-karaṇE || 1||

MūḍHa Jahīhi Dhanāgama-tṛṣṇĀṁ
Kuru Sad-buddhiṁ Manasi VitṛṣṇĀm |
Yallabhase Nija Karmopāttaṁ
Vittaṁ Tena Vinodaya Cittam || 2||

Nārī-stanabhara-nābhī-deśaṁ
DṛṣṭVā Māgāmohāveśam |
Etan MāṁSa-vasādi Vikāraṁ
Manasi Vicintaya Vāraṁ Vāram || 3||

Nalinī-dala-gata-jalam Ati-taralaṁ
Tadvaj-jīvitam Atiśaya-capalaṁ |
Viddhi Vyādhyabhimāna-grastaṁ
Lokaṁ Śoka-hataṁ Ca Samastam || 4||

Yāvad-vittopārjana Saktaḥ
Tāvan-nija Parivāro Raktaḥ |
Paścājjīvati Jarjara Dehe
Vārtāṁ Ko’pi Na PṛCchati Gehe || 5||

Yāvat-pavano Nivasati Dehe
Tāvat-pṛCchati Kuśalaṁ Gehe |
Gatavati Vāyau Dehāpāye
Bhāryā Bibhyati Tasmin Kāye || 6||

Bāla Stāvat KrīḍĀsaktaḥ
TaruṇA Stāvat TaruṇĪsaktaḥ |
VṛDdha Stāvat Cintāsaktaḥ
Pare BrahmaṇI Ko’pi Na Saktaḥ || 7||

Kāte Kāntā Kaste Putraḥ
SaṁSāro’yamatīva Vicitraḥ |
Kasya Tvaṁ Kaḥ Kuta Āyātaḥ
Tattvaṁ Cintaya Tad Iha Bhrātaḥ || 8||

SatsaṅGatve NissaṅGatvaṁ
NissaṅGatve Nirmohatvam |
Nirmohatve Niścalatattvaṁ
Niścalatattve Jīvanmuktiḥ || 9||

Vayasi Gate Kaḥ Kāma-vikāraḥ
ŚuṣKe Nīre Kaḥ Kāsāraḥ |
KṣĪṇE Vitte Kaḥ Parivāraḥ
Jñāte Tattve Kaḥ SaṁSāraḥ || 10||

Mā Kuru Dhana Jana Yauvana Garvaṁ
Harati NimeṣĀt-kālaḥ Sarvam |
Māyāmayamidam-akhilaṁ Hitvā
Brahma-padaṁ Tvaṁ Praviśa Viditvā || 11||

Dina Yāminyau Sāyaṁ Prātaḥ
Śiśira-vasantau Punarāyātaḥ |
Kālaḥ KrīḍAti Gacchatyāyuḥ
Tadapi Na Muñcatyāśā-vāyuḥ || 12||

Dvādaśa-mañjarikābhira ŚeṣAḥ
Kathito VaiyākaraṇAsyaiṣAḥ |
Upadeśo’bhūd-vidyānipuṇAiḥ
ŚrīmacchaṅKara-bhagavaccharaṇAiḥ || 12A||

Kāte Kāntā Dhana Gata-cintā
Vātula Kiṁ Tava Nāsti Niyantā |
Trijagati Sajjana SaṅGatirekā
Bhavati BhavārṇAva TaraṇE Naukā || 13||

JaṭIlo MuṇḍĪ Luñchita Keśaḥ
KāṣĀyāmbara BahukṛTa VeṣAḥ |
Paśyannapi Ca Na Paśyati MūḍHaḥ
Udara Nimittaṁ BahukṛTaveṣAḥ || 14||

AṅGaṁ Galitaṁ Palitaṁ MuṇḍAṁ
Daśana-vihīnaṁ Jataṁ TuṇḍAm |
VṛDdho Yāti GṛHītvā DaṇḍAṁ
Tadapi Na MuñcatyāśāpiṇḍAm || 15||

Agre Vahniḥ PṛṣṭHe Bhānuḥ
Rātrau Cubuka Samarpita Jānuḥ |
Karatala BhikṣAs-tarutala Vāsaḥ
Tadapi Na Muñcatyāśāpāśaḥ || 16||

Kurute GaṅGā-sāgara Gamanaṁ
Vrata Paripālanam-athavā Dānam |
Jñāna Vihinaḥ Sarvamatena
Muktiṁ Na Bhajati Janma Śatena || 17||

Sura Mandira Taru Mūla Nivāsaḥ
Śayyā Bhūtalam-ajinaṁ Vāsaḥ |
Sarva Parigraha Bhoga Tyāgaḥ
Kasya Sukhaṁ Na Karoti Virāgaḥ || 18||

Yogarato Vā Bhogarato Vā
SaṅGarato Vā SaṅGavihīnaḥ |
Yasya BrahmaṇI Ramate Cittaṁ
Nandati Nandati Nandatyeva || 19||

Bhagavad-gītā Kiñcidadhītā
GaṅGā Jalalava KaṇIkā Pītā |
SakṛDapi Yena Murāri Samarcā
Kriyate Tasya Yamena Na Carcā || 20||

Punarapi Jananaṁ Punarapi MaraṇAṁ
Punarapi Jananī JaṭHare Śayanam |
Iha SaṁSāre Bahu Dustāre
KṛPayā’pāre Pāhi Murāre || 21||

Rathyā CarpaṭA Viracita Kanthaḥ
PuṇYāpuṇYa Vivarjita Panthaḥ |
Yogī Yoga Niyojita Citto
Ramate Bālonmattavadeva || 22||

Kastvaṁ Ko’haṁ Kuta Āyātaḥ
Kā Me Jananī Ko Me Tātaḥ |
Iti Paribhāvaya Sarvam Asāraṁ
Viśvaṁ Tyaktvā Svapna Vicāram || 23||

Tvayi Mayi Cānya Traiko ViṣṇUḥ
Vyarthaṁ Kupyasi MayyasahiṣṇUḥ |
Bhava Samacittaḥ Sarvatra Tvaṁ
Vāñchasyacirād-yadi ViṣṇUtvam || 24||

Śatrau Mitre Putre Bandhau
Mā Kuru Yatnaṁ Vigraha Sandhau |
Sarvasminnapi Paśyātmānaṁ
Sarvatrot-sṛJa Bhedājñānam || 25||

Kāmaṁ Krodhaṁ Lobhaṁ Mohaṁ
Tyaktvā’tmānaṁ Bhāvaya Ko’ham |
Ātma-jñāna Vihīnā MūḍHāḥ
Te Pacyante Naraka NigūḍHāḥ || 26||

Geyaṁ Gītā-nāma-sahasraṁ
Dhyeyaṁ Śrīpati Rūpam-ajasram |
Neyaṁ Sajjana SaṅGe Cittaṁ
Deyaṁ Dīna-janāya Ca Vittam || 27||

Sukhataḥ Kriyate Rāmābhogaḥ
Paścāddhanta Śarīre Rogaḥ |
Yadyapi Loke MaraṇAṁ ŚaraṇAṁ
Tadapi Na Muñcati Pāpā-caraṇAm || 28||

Artham-anarthaṁ Bhāvaya Nityaṁ
Nāsti Tataḥ Sukha Leśaḥ Satyam |
Putrādapi Dhana Bhājāṁ Bhītiḥ
SarvatraiṣĀ Vihitā Rītiḥ || 29||

PrāṇĀyāmaṁ Pratyāhāraṁ
Nityānitya Vivekavicāram |
Jāpyasameta Samādhi-vidhānaṁ
Kurvavadhānaṁ Mahad-avadhānam || 30||

Guru-caraṇĀmbuja Nirbhara Bhaktaḥ
SaṁSārādacirādbhava Muktaḥ |
Sendriya Mānasa Niyamādevaṁ
DrakṣYasi Nija HṛDayasthaṁ Devam || 31||

MūḍHaḥ Kaścana VaiyākaraṇO
ḍUkṛÑkaraṇĀdhyayana DhuriṇAḥ |
ŚrīmacchaṅKara BhagavacchiṣYai
Bodhita ĀsicchodhitakaraṇAḥ || 32||

Bhaja Govindam Bhaja Govindam
Govindaṁ Bhaja-mūḍHamate |
Nāma-smaraṇĀdanyamupāyaṁ
Nahi Paśyāmo BhavataraṇE || 33||

Iti Bhaja Govindam SaṁPūrṇAm


Bhaja Govindam हिंदी भावार्थ

हे प्रमादी मन वाले मित्र, गोविंदा का जप करो, गोविंदा की पूजा करो, गोविंदा से प्रेम करो क्योंकि व्याकरण के नियमों को याद करते हुए मृत्यु के समय कोई बचा नहीं सकता। .1।

हे दिगभ्रमित मन! धन पाने के लिए अपनी वासना त्याग दें। अपने मन से ऐसी इच्छाओं को त्यागें और धार्मिकता का मार्ग अपनाएं। अपनी मेहनत के फलस्वरूप मिलने वाले पैसों से अपने मन को खुश रखें। .2।

भ्रम के प्रभाव में महिला की शारीरिक रचना के कुछ हिस्सों को देखकर आकर्षित न हों, क्योंकि ये त्वचा, मांस और इसी तरह के पदार्थों से बने होते हैं। इस पर बार-बार अपने मन में विचार करें। .3।

कमल के पत्ते पर पानी गिरता है, जीवन उतना ही अधकचरा होता है। ज्ञात रहे कि पूरी दुनिया बीमारी, अहंकार और शोक से परेशान है। .4।

जब तक एक आदमी फिट है और पैसा कमाने में सक्षम है, तब तक परिवार में हर कोई उसके प्रति स्नेह दिखाता है। लेकिन बाद में, जब शरीर कमजोर हो जाता है तो बातचीत के दौरान भी उसके बारे में कोई पूछताछ नहीं करता है। .5।

जब तक एक जीवित है, परिवार के सदस्य उसके कल्याण के बारे में कृपया पूछताछ करते हैं। लेकिन जब प्राण वायु (प्राण) शरीर से प्रस्थान करते हैं, तो भी पत्नी को शव से डर लगता है। .6।

बचपन में हम खेल से जुड़े होते हैं, युवावस्था में हम महिला से जुड़े होते हैं। हर बात पर बुढ़ापा चिंता में जाता है। लेकिन कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं है जो किसी भी अवस्था में परब्रह्म गोविंद में तल्लीन होना चाहता है। .7।

तुम्हारी पत्नी कौन हैं ? तुम्हारा बेटा कौन है? वाकई, अजीब है यह दुनिया। हे प्रिये, बार-बार सोचो कि तुम कौन हो और कहां से आए हो। .8।

संतों के साथ जुड़ाव गैर-जुड़ाव लाता है, गैर-लगाव सही ज्ञान की ओर जाता है, सही ज्ञान हमें स्थायी जागरूकता की ओर ले जाता है, जिससे मुक्ति का पालन होता है। .9।

जैसे युवाओं के बिना वासना, बिना पानी के झील, बिना धन के रिश्तेदार निरर्थक हैं, वैसे ही इस दुनिया का अस्तित्व समाप्त हो जाता है, जब सच्चाई का पता चलता है? .10।

धन, दोस्तों (शक्ति) और युवाओं का घमंड न करें, इन्हें समय रहते फ्लैश से दूर किया जा सकता है। इस पूरे संसार को माया के मायाजाल में जानकर आप पूर्ण को पाने की कोशिश करते हैं। ।1 1।

दिन और रात, शाम और सुबह, सर्दी और वसंत आते हैं और जाते हैं। समय के इस खेल में पूरी जिंदगी चली जाती है, लेकिन इच्छा की आंधी कभी दूर नहीं होती और न ही कम होती है। .12।

बारह श्लोकों का यह गुलदस्ता सर्वज्ञ, ईश्वर के समान श्री शंकराचार्य द्वारा एक व्याकरण के लिए प्रदान किया गया था। .12A।

अरे बहक गए यार! आप अपने धन और पत्नी की चिंता क्यों करते हैं? क्या उनकी देखभाल करने वाला कोई नहीं है? केवल संतों की कंपनी आपको पुनर्जन्म के इस महासागर से निकालने के लिए तीन दुनियाओं में एक नाव के रूप में कार्य कर सकती है। .13।

उलझे हुए और अनचाहे बाल, मुंडा सिर, नारंगी या विभिन्न रंग के कपड़े सभी आजीविका कमाने का एक तरीका है। हे प्रबुद्ध आदमी, तुम इसे देखने के बाद भी इसे क्यों नहीं समझते। .14।

कमजोर अंगों का एक बूढ़ा व्यक्ति, बिना बालों वाला सिर, दांत रहित मुंह, जो छड़ी के साथ चलता है, अपनी इच्छाओं को नहीं छोड़ सकता। .15।

जो सूर्यास्त के बाद आग से अपने शरीर को गर्म करता है, ठंड से बचने के लिए अपने शरीर को अपने घुटनों तक मोड़ता है; भीख मांगकर खाना खाता है और पेड़ के नीचे सोता है, वह इच्छाओं से भी बँधा रहता है, यहाँ तक कि इन कठिन परिस्थितियों में भी ।16 food

सभी धर्मों के अनुसार, ज्ञान के बिना कोई भी व्यक्ति सौ जन्मों में मुक्त नहीं हो सकता है, हालांकि वह गंगासागर की यात्रा कर सकता है या उपवास कर सकता है या दान कर सकता है। .17।

एक मंदिर में या एक पेड़ के नीचे निवास करें, धरती पर अपने बिस्तर के रूप में सोएं, अकेले रहें, सभी सामान और सुख-सुविधाएं छोड़ दें, ऐसा त्याग किसी को भी सभी सुख दे सकता है। .18।

ध्यान साधना या सांसारिक सुखों में से एक, संलग्न या अलग हो सकता है। लेकिन केवल भगवान पर अपने मन को ठीक करने वाला व्यक्ति आनंद का आनंद लेता है, आनंद का आनंद लेता है। .19।

जो लोग गीता का अध्ययन करते हैं, यहां तक ​​कि थोड़ा, पवित्र गंगा से सिर्फ एक बूंद पानी पीते हैं, भगवान कृष्ण को एक बार भी प्यार से पूजा करते हैं, मृत्यु के देवता यम का उन पर कोई नियंत्रण नहीं है। .20।

फिर से जन्मे, फिर से मरें, फिर से माँ के गर्भ में रहें, इस दुनिया को पार करना वास्तव में मुश्किल है। हे मुरारी! कृपया अपनी दया के माध्यम से मेरी मदद करें। .21।

जो रथों के कारण चीर-फाड़ करता है, वह पुण्य और पाप से मुक्त मार्ग पर आगे बढ़ता है, निरंतर अभ्यास के माध्यम से अपने मन को नियंत्रित रखता है, एक लापरवाह अतिउत्साही बच्चे की तरह भोगता है। .22।

तुम कौन हो ? मैं कौन हूँ ? मैं कहाँ से आया हूँ? मेरी माँ कौन है, मेरे पिता कौन है? इन पर विचार करना और समझने के बाद, यह दुनिया एक सपने की तरह निरर्थक है, इसे त्यागें। .23।

भगवान विष्णु मुझमें, आपमें और अन्य सभी में निवास करते हैं, इसलिए आपका क्रोध व्यर्थ है। यदि आप विष्णु की शाश्वत स्थिति प्राप्त करना चाहते हैं, तो हर समय, सभी चीजों में समभाव का अभ्यास करें। .24।

अपने दोस्तों, भाइयों, रिश्तेदारों और बेटे (ओं) के प्यार को जीतने या अपने दुश्मनों से लड़ने की कोशिश न करें। अपने आप को हर किसी में देखें और हर जगह द्वैत का अज्ञान छोड़ दें। .25

इच्छाओं, क्रोध, लोभ और भ्रम को त्याग दो। अपने असली स्वभाव पर विचार करना। स्वयं के ज्ञान से रहित, इस दुनिया में आते हैं, एक छिपी हुई नरक, अंतहीन। .26

भगवान विष्णु की हजार महिमाएं गाएं, जो आपके हृदय में निरंतर उनके स्वरूप का स्मरण करती हैं। अच्छे लोगों की कंपनी का आनंद लें और गरीबों और जरूरतमंदों के लिए दान करें। .27।

लोग इस शरीर का उपयोग आनंद के लिए करते हैं जो अंत में रोगग्रस्त हो जाता है। हालांकि इस दुनिया में सब कुछ मृत्यु में समाप्त हो जाता है, मनुष्य पापी आचरण को नहीं छोड़ता है। .28।

यह सोच कर रखें कि पैसा सभी परेशानियों का कारण है, यह थोड़ी सी भी खुशी नहीं दे सकता है। एक अमीर आदमी अपने ही बेटे से डरता है। यह हर जगह धन का कानून है। .29

प्राणायाम करें, जीवन शक्तियों का नियमन करें, उचित भोजन लें, निरंतर क्षणभंगुर से स्थायी को अलग करें, प्रेम और ध्यान के साथ भगवान के पवित्र नामों का जप करें, अत्यंत ध्यान से। .30।

अपने गुरु के चरण कमलों पर ही निर्भर रहो और इस संसार से मुक्ति पाओ। अनुशासित इंद्रियों और मन के माध्यम से, आप अपने दिल के प्रभु को देख सकते हैं! 31

इस प्रकार व्याकरण के नियमों को याद करने में खो गए एक व्याकरणज्ञ के माध्यम से, सभी जानने वाले श्री शंकर ने अपने शिष्यों को ज्ञान के लिए प्रेरित किया। ॥32

हे प्रमादी मन के मित्र, गोविंदा का जप करो, गोविंदा की पूजा करो, गोविंदा से प्रेम करो क्योंकि भगवान के पवित्र नामों को प्यार से याद करने के अलावा जीवन के सागर को पार करने का कोई और रास्ता नहीं है। ॥33


आदि शंकराचार्य द्वारा रचित “Bhaja Govindam” भजन आपको पसंद आया होगा। “Bhaja Govindam Lyrics” संस्कृत और इंग्लिश में दिए गए है और साथ में हिंदी में अनुवाद भी दिया गया है।

अगर किसी अन्य व्यक्ति को भक्ति का मार्ग दिखाया जाये या आपके कर्म से किसी को भक्ति का सौभाग्य प्राप्त हो तो वह भी उस ईश्वर की भक्ति ही है। इसलिए एक कदम उठाकर आप इसे अपने सोशल मीडिया पर शेयर करे। धन्यवाद।

bhaja govindam lyrics in hindi , bhaj govindam lyrics , bhaja govindam lyrics hindi , bhaj govindam bhaj govindam lyrics , bhaja govindam lyrics , punarapi jananam lyrics in hindi , punarapi jananam lyrics in hindi , पुनरपि जननं पुनरपि मरणं lyrics.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here