आशुतोष सशाँक शेखर लिरिक्स | Ashutosh Sashank Shekhar Lyrics

आज हम आपके लिए लेकर आये है शिव शंकर का एक अद्बुध भजन जो की शिव महापुराण से लिया गया है। आशुतोष सशाँक शेखर लिरिक्स | Ashutosh Sashank Shekhar Lyrics भजन का लिरिक्स, वीडियो और ऑडियो के साथ दिया गया है।


Ashutosh Sashank Shekhar Lyrics

आशुतोष सशाँक शेखर चन्द्र मौली चिदंबरा,
कोटि कोटि प्रणाम शम्भू कोटि नमन दिगम्बरा,

निर्विकार ओमकार अविनाशी तुम्ही देवाधि देव ,
जगत सर्जक प्रलय करता शिवम सत्यम सुंदरा ,

निरंकार स्वरूप कालेश्वर महा योगीश्वरा ,
दयानिधि दानिश्वर जय जटाधार अभयंकरा,

शूल पानी त्रिशूल धारी औगड़ी बाघम्बरी ,
जय महेश त्रिलोचनाय विश्वनाथ विशम्भरा,

नाथ नागेश्वर हरो हर पाप साप अभिशाप तम,
महादेव महान भोले सदा शिव शिव संकरा,

जगत पति अनुरकती भक्ति सदैव तेरे चरण हो,
क्षमा हो अपराध सब जय जयति जगदीश्वरा,

जनम जीवन जगत का संताप ताप मिटे सभी,
ओम नमः शिवाय मन जपता रहे पञ्चाक्षरा,

आशुतोष सशाँक शेखर चन्द्र मौली चिदम्बरा,
कोटि कोटि प्रणाम संभु कोटि नमन दिगम्बरा।

Ashutosh Sashank Shekhar Lyrics

हमें उम्मीद है की भगवान शिव के भक्तो को यह आर्टिकल “आशुतोष सशाँक शेखर लिरिक्स | Ashutosh Sashank Shekhar Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। Ashutosh Sashank Shekhar Lyrics भजन के आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here