श्री राणी सती जी की आरती लिरिक्स | Shri Rani Sati Aarti Lyrics

श्री राणी सती जी की आरती “श्री राणी सती जी की आरती लिरिक्स | Shri Rani Sati Aarti Lyrics” Jaswant Singh जी के द्वारा गायी हुई है। आरती के लिरिक्स हिंदी और इंग्लिश में वीडियो के साथ दिए हुए है।


श्री राणी सती जी की आरती लिरिक्स

ॐ जय श्री राणी सती माता, मैया जय राणी सती माता,
अपने भक्त जनन की दूर करन विपत्ती॥

अवनि अननंतर ज्योति अखंडीत, मंडितचहुँक कुंभा
दुर्जन दलन खडग की विद्युतसम प्रतिभा॥

मरकत मणि मंदिर अतिमंजुल, शोभा लखि न पडे,
ललित ध्वजा चहुँ ओरे , कंचन कलश धरे॥

घंटा घनन घडावल बाजे, शंख मृदुग घूरे,
किन्नर गायन करते वेद ध्वनि उचरे॥

सप्त मात्रिका करे आरती, सुरगण ध्यान धरे,
विविध प्रकार के व्यजंन, श्रीफल भेट धरे॥

संकट विकट विदारनि, नाशनि हो कुमति,
सेवक जन ह्रदय पटले, मृदूल करन सुमति,

अमल कमल दल लोचनी, मोचनी त्रय तापा॥
त्रिलोक चंद्र मैया तेरी,शरण गहुँ माता॥

या मैया जी की आरती, प्रतिदिन जो कोई गाता,
सदन सिद्ध नव निध फल, मनवांछित पावे ||

Shri Rani Sati Aarti Lyrics

Shri Rani Sati Aarti Lyrics

Jai Sri Ranisatiji Mayya, Jai Jagdambe Sati |
Apne bhakt jano ki Mayya, Apne daas jano ki Mayya, Durr karo vippati ||
om Jai Sri Ranisatiji Mayya ||

Avani Anantar Jyoti Akhandit, Mandit Chahu Kumbha |
Durjan Dalan Khadg ki, Vidhut Sam Pratibha ||
om Jai Sri Ranisatiji Mayya ||

Markat Mani Mandir Ati Manjul, Shobha lakhi na pare |
Lalit Dhvaja Chahun Ore, Kanchan kalash dhare ||
om Jai Sri Ranisatiji Mayya ||

Ghanta ghanan ghadaval baaje, shankh mridang dhure |
Kinnar gaayan karte, ved dhwani uchare ||
om Jai Sri Ranisatiji Mayya ||

Sapta Matrika Kare Aarti, surgan dhyan dhare |
Vividh prakar ke vyanjan, Sriphal bhentha dhare ||
om Jai Sri Ranisatiji Mayya ||

Sankat Vikat Vidarani, Nashani ho kumati |
Sevak janhrid patle, Mridul karan sumati ||
om Jai Sri Ranisatiji Mayya ||

Amal Kamal Dal lochani, mochani traya taapa |
Sevan aayo sharan aapki, laaj raakho Maata ||
om Jai Sri Ranisatiji Mayya ||

Ya Mayyaji ki Aarti pratidin, jo koi nar gaave |
Sadan siddhi nav nidhiphal, mann vancchit paave ||
om Jai Sri Ranisatiji Mayya ||

Jai Sri Ranisatiji Mayya, Jai Jagdambe Sati |
Apne bhakta jano ki, Mayya durr karo vippatti ||
om Jai Sri Ranisatiji Mayya ||


हमें उम्मीद है की सभी भक्तो को यह आर्टिकल “श्री राणी सती जी की आरती लिरिक्स | Shri Rani Sati Aarti Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। Shri Rani Sati Aarti Lyrics के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने को कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here