द्वार खडी शनिदेव तुम्हारे लिरिक्स | Dwar Khadi Shani Dev Tumhare Lyrics

शनि देव का भजनद्वार खडी शनिदेव तुम्हारे लिरिक्स | Dwar Khadi Shani Dev Tumhare Lyrics” तारा देवी जी के द्वारा गाया गया है। शनि देव को सुख समृदि, वैभव देने वाला देव माना जाता है। पापियों को सजा और ईमानदारों को यश,धन देते है।

Dwar Khadi Shani Dev Tumhare Lyrics

द्वार खड़ी शनी देव तुम्हारे किरपा करो शनि दया करो ।
करू तुम्हारी चरण वंदना कष्ट हमारे विदा करो ।।

द्वार खड़ी शनी देव तुम्हारे ।।

तुम्हे मालुम सभी कुछ घेर खड़े है गम कितने,
तुम से नही तो किस से कहे लाचार बड़े है हम कितने ।
तुम से है ये बिनती मेरी छमा करो अप्राद मेरे,
भीड़ दुखो की घेरे खड़ी है कोई नही है साथ मेरे ।।

करू तुम्हारी चरण वंदना कष्ट हमारे विदा करो ।
द्वार खड़ी शनी देव तुम्हारे ।।

दुनिया की क्या बात करू मैं परछाई भी दुश्मन है,
राहे हो गई अंगारों सी आग में जलता जीवन है ।
हाथ धरो मेरे सिर के ऊपर शीतल सी छाया करदो,
हो जाए दुःख दूर हमारे तुम ऐसी माया करदो ।।

करू तुम्हारी चरण वंदना कष्ट हमारे विदा करो ।
द्वार खड़ी शनी देव तुम्हारे ।।

कब काटो गी देव हमारी किस्मत की जनजीरो को,
रंग दो खुशियों से हाथो की इन बेरंग लकीरों को ।
नया करा है न्याए देवता दर दर की ठुकराई हु,
नये मिलेगा यही सोच के द्वार तुम्हारे आई हु ।।

करू तुम्हारी चरण वंदना कष्ट हमारे विदा करो ।
द्वार खड़ी शनी देव तुम्हारे ।।


हमें उम्मीद है की शनिदेव के भक्तो को यह आर्टिकल “द्वार खडी शनिदेव तुम्हारे लिरिक्स | Dwar Khadi Shani Dev Tumhare Lyrics“+ Video + Audio बहुत पसंद आया होगा। “Dwar Khadi Shani Dev Tumhare Lyrics” भजन पर आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने को कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment