यदा यदा ही धर्मस्य श्लोक लिरिक्स | Yada Yada Hi Dharmasya Sloka Lyrics

श्री कृष्ण द्वारा कथित गीता का एक श्लोक “यदा यदा ही धर्मस्य श्लोक | Yada Yada Hi Dharmasya Sloka Lyrics” यहाँ अर्थ के साथ दिया गया है। जब अर्जुन महाभारत के युद्ध में लड़ाई करने से मना कर रहे थे तब श्री कृष्ण ने अर्जुन को भगवत गीता सुनाई और उनका मार्गदर्शन किया।


यदा यदा ही धर्मस्य लिरिक्स

यदा यदा हि धर्मस्य
ग्लानीं भवति भरत
अभ्युत्थानम् अधर्मस्य
तदात्मनम् श्रीजाम्यहम्

परित्राणाय सौधुनाम्
विनशाय च दुष्कृताम्
धर्मसंस्था पन्नार्थाय
संभवामि युगे युगे

नैनम चिंदंति शास्त्राणि
नैनम देहाति पावकाः
न चैनम् केलदयंत्यपापो
ना शोषयति मारुताः

सुखदुक्खे समान कृतवा
लभलाभौ जयाजयौ
ततो युधाय युज्यस्व
निवम पापमवाप्स्यसि

अहंकारम बलम दरपम
कामम क्रोधम् च समश्रितः
महामातं परमदेषु
प्रदविष्णो अभ्यसुयाकः

यदा यदा ही धर्मस्य श्लोक हिंदी अर्थ

हां पार्थ, मै प्रकट होता हूँ, मै आता हूँ।
जब जब धर्म की हानि होती है, तब तब मै आता हूँ।
जब जब अधर्म बढ़ता है तब तब मैं आता हूँ।

धर्मियों की रक्षा के लिए, दुष्टों का विनाष करने के लिए मै आता हूँ।
धर्म की स्थापना केलिए मैं आता हूँ और युग युग में जन्म लेता हूँ।

आत्मा को नाही हथियार भेद सकते हैं,
न ही आग इसे जला सकते हैं।
पानी इसे गीला नहीं कर सकता,
और न ही हवा इसे सुखा सकती है।

कर्तव्य के लिए लड़ो, एक जैसे सुख और संकट, हानि और लाभ, जीत और हार का इलाज करो।
इस तरह अपनी ज़िम्मेदारी पूरी करने से आप कभी पाप नहीं करेंगे।

अहंकार, बल , इच्छा और क्रोध से अंधा, राक्षसी ने अपने शरीर के भीतर
और दूसरों के शरीर में मेरी उपस्थिति का दुरुपयोग किया।

Yada Yada Hi Dharmasya Sloka Lyrics

Yada Yada Hi Dharmasya Sloka Lyrics

Yada Yada Hi Dharmasya
Yada Yada Hi Dharmasya
Glanir Bhavati Bharata
Abhyuthanam Adharmasya
Tadaatmaanam Srijaamyaham

Paritranaay Saadhunaam
Vinaashaay Ch Dushkritaam
Dharmasanstha Panaarthaay
Sambhavaami Yuge Yuge

Nainam Chindanti Shastrani
Nainam Dahati Paavakaah
Na Chainam Kledayantyaapo
Na Shoshayati Maarutaah

Sukhadukkhe Same Kritva
Laabhaalaabhau Jayaajayau
Tato Yuddhaaya Yujyasva
Naivam Paapamavaapasyasi

Ahankaaram Balam Darpam
Kaamam Krodham Cha Samshritaah
Maamaatam Pardaheshu
Pradvishanto Abhyasuyakaah

Meaning of Yada Yada Hi Dharmasya Sloka

Whenever There Is A Decline In Righteousness And An Increase In Sinfulness, O Arjun, At That Time I Manifest Myself On Earth.

To Protect The Righteous, To Annihilate The Wicked,  And To Reestablish The Principles Of Dharma I Appear On This Earth, Age After Age.

Weapons Cannot Shred The Soul, Nor Can Fire Burn It. Water Cannot Wet It, Nor Can The Wind Dry It.

Fight For The Sake Of Duty, Treating Alike Happiness And Distress, Loss And Gain, Victory And Defeat. Fulfilling Your Responsibility In This Way, You Will Never Incur Sin.

Blinded By Egotism, Strength, Arrogance, Desire, And Anger, The Demonic Abuse My Presence Within Their Own Body And In The Bodies Of Others.


हमें उम्मीद है की श्री कृष्ण के भक्तो को यह आर्टिकल “यदा यदा ही धर्मस्य श्लोक लिरिक्स | Yada Yada Hi Dharmasya Sloka Lyrics” + Video + Audio बहुत पसंद आया होगा। Yada Yada Hi Dharmasya Sloka Lyrics” के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने की पूरी पूरी कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

yada yada hi dharmasya lyrics in hindi , yada yada hi dharmasya lyrics , yada yada hi dharmasya sloka , yada yada hi dharmasya , यदा यदा ही धर्मस्य , yada yada hi dharmasya shloka , यदा यदा ही धर्मस्य श्लोक , yada yada hi dharmasya in hindi , yada yada hi dharmasya sloka lyrics , yada yada hi dharmasya sloka in hindi .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here