वृंदावन की इन कुंज गलिन में लिरिक्स | Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein Lyrics

कृष्ण भगवान का यह अद्बुध भजन “वृंदावन की इन कुंज गलिन में लिरिक्स | Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein Lyrics” चित्र विचित्र जी के द्वारा गाया हुआ है। भजन के लिरिक्स हिंदी और इंग्लिश में वीडियो के साथ दिए हुए है।


वृंदावन की इन कुंज गलिन में लिरिक्स

वृंदावन की इन कुंज गलिन में,
ख़ुशबू बिहारी जी की आती है,
मन में समा के, मुझें मद होश बना के,
दर पे बिहारी के ले जाती है,

ऐसी सुगंध छाई है चहुं ओरी,
रसीको को खींच लेती बांध प्रेम डोरी,
जग को भुलाए यह दिल में समाए,
प्रेमियों के मन को यह भाती है,
वृँदावन की इन कुंज गलिन में,
खुशबू बिहारी जी की आती है।

धन्य वृंदावन में बहे पुरवइया,
लता पता महके फूल और कलियां,
पुष्प पुष्प में हर कली कली में,
दिव्य सुगंध भर आती है,
वृँदावन की इन कुंज गलीन में,
खुशबू बिहारी जी की आती है।

एक बार आकर यहां करले विचरण,
कण-कण सुगंधित हैं वातावरण,
खुद महकोगे सबको मेहकाओगे,
खुशबू जीवन महकाती है,
वृँदावन की इन कुंज गलीन में,
खुशबू बिहारी जी की आती है।

जब से लगा है वृंदावन का चस्का,
बन गए पागल पीके प्याला प्रेम रस का,
सुन लो मित्र कहे ये चित्र विचित्र,
ये जीवन पवित्र बनाती है,
वृँदावन की इन कुंज गलिन में,
खुशबू बिहारी जी की आती है।

वृंदावन की इन कुंज गलिन में,
खुशबूं बिहारी जी की आती है,
मन में समा के, मुझे मद होश बनाके,
दर पे बिहारी के ले जाती है।


Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein Lyrics

Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein,
Khushboo Bihari Ji Ki Aati Hai,
Man Me Sama Ke, Muje Mad Hosh Bana Ke,
Mar Pe Bihari Ke Le Jati Hai,

Aisi Sugandh Chhayi Hai Chahu Auri,
O Rasiko Ko Kheech Leti Baandh Prem Dori,
Jag Ko Bhulaye Mehak Ye Dil Mein Samaye,
Premiyo Ke Man Ko Bhaati Hai,
Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein,
Khushboo Bihari Ji Ki Aati Hai.

Dhan Vrindavan Mein Bahe Purvaiya,
Lata Pata Mehake Phool Aur Kaliya,
Pushp Pushp Mein Har Kali Kali Mein,
Divya Sugandh Bhar Aati Hai,
Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein,
Khushboo Bihari Ji Ki Aati Hai.

Ek Baar Aake Yaha Karle Vichran,
Ho Kan Kan Sugandhit Hai Vatavaran,
Khud Mehakoge Sabko Mehkauge,
Ye Khushboo Jivan Mehakati Hai,
Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein,
Khushboo Bihari Ji Ki Aati Hai.

Jabse Laga Hai Vrindavan Ka Chaska,
Ban Gaye Pagal Peeke Pyala Prem Ras Ka,
Sunlo Mitra Kahe Ye Chitra Vichitra,
Ye Jivan Pavitra Banati Hai,
Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein,
Khushboo Bihari Ji Ki Aati Hai.

Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein,
Khushboo Bihari Ji Ki Aati Hai,
Man Me Sama Ke, Muje Mad Hosh Bana Ke,
Mar Pe Bihari Ke Le Jati Hai.

Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein Lyrics

हमें उम्मीद है की श्री कृष्ण के भक्तो को यह आर्टिकल “वृंदावन की इन कुंज गलिन में लिरिक्स | Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। “ Vrindavan Ki In Kunj Galin Mein Lyrics ” भजन के आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here