Naam Hai Tera Taran Hara Kab Tera Darshan Hoga – नाम है तेरा तरण हरा कब तेरा दर्शन होगा

Naam Hai Tera Taran Hara Kab Tera Darshan Hoga – नाम है तेरा तरण हरा कब तेरा दर्शन होगा

Naam Hai Tera Taran Hara Kab Tera Darshan Hoga
नाम है तेरा तरण हरा कब तेरा दर्शन होगा

नाम है तेरा तारण हार, कब तेरा दर्शन होगा ।
जिनकी प्रतिमा इतनी सुंदर, वो कितना सुंदर होगा ।।

जिनकी प्रतिमा इतनी सुंदर, वो कितना सुंदर होगा ।।

तुमने तारे लखो प्राणी, यहा संतो की वाणी है ।
तेरी छवि पर वो मेरे भगवंत, यह दुनिया दीवानी है ।।

भाव से तेरी वो हू जगा चाहू, जीवन मे मंगल होगा ।
जिनकी प्रतिमा इतनी सुंदर, वो कितना सुंदर होगा ।।

जिनकी प्रतिमा इतनी सुंदर, वो कितना सुंदर होगा ।
सुरवार मूनिवारा जिनके चरण मे, निषदिन शीश जुकते है ।।

जो गाते है प्रभु की महिमा, वो सब कुछ पा जाते है ।
अपने कष्ट मिटाने को तेरे, चरनो का वंदन होगा ।।

जिनकी प्रतिमा इतनी सुंदर, वो कितना सुंदर होगा ।
जिनकी प्रतिमा इतनी सुंदर, वो कितना सुंदर होगा ।।

मन की मुरते लेकर स्वामी, तेरे चरण में आए है ।
हम है बालक, तेरे जिनावरा, तेरे ही गुण गाते है ।।

जिनकी प्रतिमा इतनी सुंदर, वो कितना सुंदर होगा ।।

भाव से पर उतरने को तेरे, गीतो का स्वर-संगम होगा ।
जिनकी प्रतिमा इतनी सुंदर, वो कितना सुंदर होगा ।।

जिनकी प्रतिमा इतनी सुंदर, वो कितना सुंदर होगा ।।

नाम है तेरा तरण हरा, कब तेरा दर्शन होगा ।
जिनकी प्रतिमा इतनी सुंदर, वो कितना सुंदर होगा ।।

जिनकी प्रतिमा इतनी सुंदर, वो कितना सुंदर होगा ।।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here