मेरे बृज की माटी चन्दन है लिरिक्स – Hemant Brijwasi Bhajan

मेरे बृज की माटी चन्दन है लिरिक्स – Hemant Brijwasi Bhajan

-बृज-की-माटी-चन्दन-है

जय श्री कृष्ण || इस कृष्ण भजन को सुनकर आपका दिन मंगलमय हो जायेगा और आपको एक अद्बुध आनद की प्राप्ति होती है।

आप यह पढ़कर सोच रहे होंगे की हम आपको पागल बना रहे है। परन्तु इस भजन में ऐसे शब्दों का चयन और ऐसा संगीत का प्रयोग हुआ है की आप भी मंत्रमुग्ध हो जायेंगे।

एक बार इस भजन को सुनने के पश्च्यात आप स्वयं यह अनुभव करेंगे की जैसे आप ब्रज वासी है और कृष्ण की लीला में खो जायेंगे।

मेरे बृज की माटी चन्दन है वीडियो
Hemant Brijwasi Bhajan

भजन के बारे में

भजन मेरे बृज की माटी चन्दन है
ArtistShree Hemant Brajwasi
AlbumMere Brij Ki Mathi Chandan Hai
Licensed to YouTube byHT Mobile (on behalf of Design And Print)
SHOW LESS

मेरे बृज की माटी चन्दन है लिरिक्स
Hemant Brijwasi Bhajan

मेरे-बृज-की-माटी-चन्दन-है-लिरिक्स-Hemant-Brijwasi-Bhajan
मेरे बृज की माटी चन्दन है लिरिक्स – Hemant Brijwasi Bhajan

Text Lyrics मेरे बृज की माटी चन्दन है लिरिक्स

मेरे ब्रज की माटी चंदन है,
गुणवान सभी कहते है,
ब्रज के राजा यशोदानन्दन,
गिरधारी जहाँ रहते है,
मेरे ब्रज की माटी चंदन है।।

जिसको कहते है नंदलाला,
सारे जग का श्याम उजाला,
मन का उजला तन का काला,
मन के मंदिर में श्याम समाए – २,
ऐसा कोई नहीं दिल वाला,
खुला खजाने का है ताला,
सोई किस्मत खोलने वाला,
ऐसे वरदानी श्याम कहाए – २,
सब भक्त श्री राधा भक्ति की,
सब भक्त श्री राधा भक्ति की,
धारा में जहाँ बहते है।

मेरे ब्रज की माटी चंदन हैं,
गुणवान सभी कहते है,
ब्रज के राजा यशोदानन्दन,
गिरधारी जहाँ रहते है,
मेरे ब्रज की माटी चंदन है।।

गोवर्धन परिक्रमा न्यारी,
आते दुनिया के नर नारी,

झुकाती द्वार पे दुनिया सारी,
राधे राधे के गुण गाते – २,
राधे श्याम के भक्त निराले,
आते दूर से आने वाले,
पाँव में पड़ जाते है छाले,
अपनी मन की मुरादों को पाते – २,
उतना ही सुख मिलता जितना,
उतना ही सुख मिलता जितना,
दुःख दर्द यहाँ सहते है।

मेरे ब्रज की माटी चंदन हैं,
गुणवान सभी कहते है,
ब्रज के राजा यशोदानन्दन,
गिरधारी जहाँ रहते है,
मेरे ब्रज की माटी चंदन है।।

कोई पैदल पैदल जाए,
कोई दूध की धार चढ़ाए,
गिरधर गिरधर नाम को गाए,
कोई श्रद्धा सुमन ले आता – २,
ये गिरिराज धरण का कहना,
राधे नाम को जपते रहना,
पहना भक्ति भाव का गहना,
सोई किस्मत को चमकाता – २,
‘हेमंत’ बना ब्रज का वासी,
‘हेमंत’ बना ब्रज का वासी,
गा गा के यही कहते है।

मेरे ब्रज की माटी चंदन हैं,
गुणवान सभी कहते है,
ब्रज के राजा यशोदानन्दन,
गिरधारी जहाँ रहते है,
मेरे ब्रज की माटी चंदन है।।

मेरे ब्रज की माटी चंदन है,
गुणवान सभी कहते है,
ब्रज के राजा यशोदानन्दन,
गिरधारी जहाँ रहते है,
मेरे ब्रज की माटी चंदन है।।

आज हमने आपको एक अद्बुध भजन “मेरे बृज की माटी चन्दन है लिरिक्स – Hemant Brijwasi Bhajan” की वीडियो और फोटो के साथ साथ PDF फाइल और लिखित में भजन के बोल (लिरिक्स) भी बताये।

मुझे उम्मीद है किआपको यह पसंद आया होगा।

इस भजन को अपने परिवार और दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले। ताकि वे भी कृष्ण भक्ति के रंग में डूब सके।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here