गणपत गौरी लाल तेरी हो रही जय जयकार लिरिक्स | Ganpat Gori Lal Teri Ho Rahi Jai Jaikaar Lyrics

भगवान गणेश “गणपत गौरी लाल तेरी हो रही जय जयकार लिरिक्स | Ganpat Gori Lal Teri Ho Rahi Jai Jaikaar Lyrics” मास्टर सलीम जी के द्वारा गाया हुआ है। इस भजन में गणेश जी का अपने कारज में आमंत्रित किया जा रहा और उन्हें प्रसन्न किया जा रहा है।


Ganpat Gori Lal Teri Ho Rahi Jai Jaikaar Lyrics

गणपत गोरी लाल तेरी हो रही जय जय कार,
शिव गोरा के लाल तेरी हो रही जय जय कार ।
गणपत गोरी लाल तेरी हो रही जय जय कार ।।

हर कोई तेरा मंगल गाऔन्दा मुहो मंगेया फल ओह पाऊंदा,
तेरे दर ते आये सवाली सब ना नु चरना नाल लाउंदा ।
सब दी सुनी पुकार तेरी हॉवे जय जय कार,
गणपत गोरी लाल तेरी हो रही जय जय कार ।।

सब तो उची तेरी हस्ती तीन लोक विच तेरी शक्ति,
रोज चड़े जो कदे न उतरे नाम तेरे दी ऐसी मस्ती ।
सब जपदे वारो वार तेरी हो रही जय जय कार,
गणपत गोरी लाल तेरी हो रही जय जय कार ।।

मन विच वसदी तेरी तस्वीर बदल देयो मेरी तकदीर,
कष्ट कलेश मिताउंदे सारे आलम पूरी कहे जसवीर ।
दे चरना दा प्यार तेरी हॉवे जय जय कार,
गणपत गोरी लाल तेरी हो रही जय जय कार ।।

Ganpat Gori Lal Teri Ho Rahi Jai Jaikaar Lyrics

हमें उम्मीद है की गणेश जी के भक्तो को यह आर्टिकल “गणपत गौरी लाल तेरी हो रही जय जयकार लिरिक्स | Ganpat Gori Lal Teri Ho Rahi Jai Jaikaar Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। “ Ganpat Gori Lal Teri Ho Rahi Jai Jaikaar ” के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here