इक झोली मे फूल भरे है इक झोली में कांटे भजन लिरिक्स | Ek Jholi Mein Phool Bhare Hain Ek Jholi Mein Kante Lyrics

श्याम बाबा का एक अद्बुध भजन “इक झोली मे फूल भरे है इक झोली में कांटे भजन लिरिक्स | Ek Jholi Mein Phool Bhare Hain Ek Jholi Mein Kante Lyrics” नीरज अवस्थी जी के द्वारा गाया हुआ है। इनकी भक्ति से श्याम जी की कृपा बनी रहती है। बाबा श्याम अपने भक्तो पर अपना आशीर्वाद बनाये रखते है।


Ek Jholi Mein Phool Bhare Hain Ek Jholi Mein Kante Lyrics

इक झोली मे फूल भरे है,
इक झोली में कांटे,
कोई कारण होगा,
अरे कोई कारण होगा,
तेरे बस में कुछ भी नही,
ये तो बाँटने वाला बांटे रे
कोई कारण होगा,
अरे कोई कारण होगा।।

पहले बनती है तकदीरे,
फिर बनते है शरीर,
कोई राजा कोई भिखारी,
कोई संत फ़क़ीर,
कोई कारण होगा,
अरे कोई कारण होगा।।

तन को बिस्तर मिल जाये,
पर नींद को तरसे नैन
कांटो पर सोकर भी किसी के,
मन को आये चैन,
कोई कारण होगा,
अरे कोई कारण होगा।।

मंदिर-मस्जिद मैं जाकर भी,
मिलता नही है ज्ञान,
कभी मिले मिट्टी से मोती,
पत्थर से भगवान,
कोई कारण होगा,
अरे कोई कारण होगा।।

सागर से भी बुझ ना पाए,
कभी किसी की प्यास,
कभी एक ही बून्द से हो जा,
जाती है पूरण आस,
कोई कारण होगा,
अरे कोई कारण होगा।।

इक झोली मे फूल भरे है,
इक झोली में कांटे,
कोई कारण होगा,
अरे कोई कारण होगा,
तेरे बस में कुछ भी नही,
ये तो बाँटने वाला बांटे रे
कोई कारण होगा,
अरे कोई कारण होगा।।

Ek Jholi Mein Phool Bhare Hain Ek Jholi Mein Kante Lyrics

हमें उम्मीद है की श्याम जी के भक्तो को यह आर्टिकल “इक झोली मे फूल भरे है इक झोली में कांटे भजन लिरिक्स | Ek Jholi Mein Phool Bhare Hain Ek Jholi Mein Kante Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। Ek Jholi Mein Phool Bhare Hain Ek Jholi Mein Kante Lyrics” भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने को कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here