अंधेऱ्या वस्तीत भीमानं लिरिक्स | Andherya Vastit Bhiman Lyrics

यह भीम गीत “अंधेऱ्या वस्तीत भीमानं लिरिक्स | Andherya Vastit Bhiman Lyrics” विष्णु शिंदे जी के द्वारा गाया हुआ है। इसके लिरिक्स वीडियो के साथ निचे दिए गए है।


Andherya Vastit Bhiman Lyrics

करून करणी दिपवली धरणी
भयान रात होती जेव्हा
अंधेऱ्या वस्तीत भीमानं लावलाय दिवा

अन्यायाची सुरी धरी माणूस माणसावरी
असली दादागिरी पाहुनी भीम पेटला उरी
तयार झाला रणी उतरला, गर्जत सिंहाचा छावा
अंधेऱ्या वस्तीत भीमानं लावलाय दिवा

नरकातून ह्या निघा जगा माणूस म्हणुनी जगा
कपटी जुलमी जगा त्यागुनी, पावन जीवन बघा
नाही हादरला सांगत फिरला धडाडीने गावोगावा
अंधेऱ्या वस्तीत भीमानं लावलाय दिवा

त्या भगवंतापदी लीन तो झाला सर्वाआधी
जन हे लक्षावधी टाकिले नंतर ओटीमधी
हीन-दीनाना दुःखी जीवांना, दिला सुखाचा हा ठेवा
अंधेऱ्या वस्तीत भीमानं लावलाय दिवा

ह्या वस्तीला धनी हजारो वर्षे नव्हता कुणी
आला भीम-नरमणी टाकिली नगरी हि बदलुनी
लक्ष्मणा ही करणी पाही, जग सारं करतंय वाहवा
अंधेऱ्या वस्तीत भीमानं लावलाय दिवा

Andherya Vastit Bhiman Lyrics

हमें उम्मीद है की आपको यह भीम गीत “अंधेऱ्या वस्तीत भीमानं लिरिक्स | Andherya Vastit Bhiman Lyrics” पसंद आया होगा। आपकी इस भीम गीत “Andherya Vastit Bhiman Lyrics” के बारे में क्या राय है – आप हमे कमेंट करके बता सकते है।

Leave a Comment

आरती : जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी