आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है लिरिक्स | Aaj Shukrawar Hai Maa Ambe Ka Vaar Hai Lyrics

दुर्गा माता का भजन “आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है लिरिक्स | Aaj Shukrawar Hai Maa Ambe Ka Vaar Hai Lyrics” राकेश काला जी के द्वारा गाया हुआ है। दुर्गा माता का भजन, वीडियो और लिरिक्स दिया गया है।


Aaj Shukrawar Hai Maa Ambe Ka Vaar Hai Lyrics

आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है,
ये सच्चा दरबार है लाल चुनर ओढे है मैया सिंह पे असवार है,

चण्ड मुंड ने स्वर्ग में आके जब उत्पात मचाया है,
देवो की विनती पे माँ ने रूप विराट बनाया है,
चण्ड मुण्ड पर वार है इनका फिर संगार है,
लाल चुनर ओढे है मैया सिंह पे असवार है,

शुम्ब निशुंभ को मारने वाले महिषासुर की घाटी है,
माहकाल के संग विराजे महाकाली कहलाती है,
हाथो में कतार है खपर भी ये धार है ,
लाल चुनर ओढे है मैया सिंह पे असवार है,

कोई कहता दुर्गा तुमको कोई कहता काली है,
पिंडी रूप में वैष्णो मैया दर्शन देने वाली है,
करती वेडा पार करती माँ उधार है,
लाल चुनर ओढे है मैया सिंह पे असवार है,

नवरातो में नो रूपों में सबके घर माँ आती है,
कंजक रूप में हलवा चने का मैया भोग लगती है,
शक्ति का अवतार है होती जय जय कार है,
लाल चुनर ओढे है मैया सिंह पे असवार है।

Aaj Shukar Vaar Hai Maa Ambe Ka Vaar Hai Lyrics

हमें उम्मीद है की माँ दुर्गा  के भक्तो को यह आर्टिकल “आज शुक्रवार है माँ अम्बे का वार है लिरिक्स | Aaj Shukrawar Hai Maa Ambe Ka Vaar Hai Lyrics” + Video + Audio बहुत पसंद आया होगा। Aaj Shukrawar Hai Maa Ambe Ka Vaar Hai Lyrics” पर आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने को कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment

आरती : जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी