तेरे दर का कान्हा अजब है नजारा लिरिक्स | Tere Dar Ka Kanha Ajab Hai Najara Lyrics

श्याम बाबा का एक अद्बुध भजन “तेरे दर का कान्हा अजब है नजारा लिरिक्स | Tere Dar Ka Kanha Ajab Hai Najara Lyrics” अधिष्ठा और अनुष्का जी के द्वारा गाया हुआ है। इनकी भक्ति से श्याम जी की कृपा बनी रहती है। बाबा श्याम अपने भक्तो पर अपना आशीर्वाद बनाये रखते है।


Tere Dar Ka Kanha Ajab Hai Najara Lyrics

तेरे दर का कान्हा, अजब है नजारा,
जो आया शरण मे, वो पाया सहारा

जिसे सारी दुनिया ने ठुकरा दिया है,
उम्मीदो का जिसका बुझा हर दीया है,
भटकता है जो दर बदर मारा मारा,
मिली श्याम किरपा हुआ फिर उजारा,
तेरे दर का कान्हा…

फंसी बीच मझधार मे गर है नैया,
हिचकोले खाये मिले ना खिवैया,
बचाया था गज जब कन्हैया पुकारा,
मेरा श्याम बनता है पल मे किनारा,
तेरे दर का कान्हा …

रहे गर्दिशों मे तेरे गर सितारे,
नजर बन्द हो और दिखे ना नजारे,
उठा हाथ दोनो तु कह खाटुवाला,
तुझे श्याम ”बिट्टु’ , है करता इशारा,
तेरे दर का कान्हा…

Tere Dar Ka Kanha Ajab Hai Najara Lyrics

हमें उम्मीद है की श्याम जी के भक्तो को यह आर्टिकल “तेरे दर का कान्हा अजब है नजारा लिरिक्स | Tere Dar Ka Kanha Ajab Hai Najara Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। Tere Dar Ka Kanha Ajab Hai Najara Lyrics भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने को कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here