सुनो अवध के वासियों सिया के राम लिरिक्स | Suno Avadh Ke Vasiyo Siya Ke Ram Lyrics

मर्यादा पुरषोत्तम श्री राम का अति पावन भजन “सुनो अवध के वासियों सिया के राम लिरिक्स | Suno Avadh Ke Vasiyo Siya Ke Ram Lyrics” – राम पुत्र लव कुश जी के द्वारा गाया गया है। इस भजन में राम भक्ति की महिमा का बखान किया गया है।


सुनो अवध के वासियों सिया के राम लिरिक्स

सुनो अवध के वासियों
सुनो अवध के वासियों, मर्यादा का सार
पुरूषोत्तम श्री राम की, कही कथा विस्तार

सुनो अवध के वासियों, कथा अयोध्या राम की
जन्म लिए रघुवर जहाँ, उन्हीं सिया के राम की
सुनो अवध के वासियों…….

अवध के स्वामी दशरथ राजा, तीन रानियों के महाराजा
पुत्र प्राप्ति वो यज्ञ कराये, तीन रानियों ने सुत जाए
भरत शत्रुघ्न लक्ष्मण रामा, समायें होत गये गुरूकुल धामा
गुरू वशिष्ठ से शिक्षा पाई, किशोरावस्था हो गये आई

पधार विश्वामित्र अयोध्या, रिपु को बताई विकत समस्या
राम लखन चलें वन को लिवाई, ताड़ अहिल्या ताड़का मारे
दुष्टों से संतन को उबारे, गुरू संग फिर विदेह पधारे

सीता माता का स्वयंवर, तोड़ दिए शिव धनुष श्री रघुवर
चारों कूँवर का व्याह रचाई, जनक अवधपति सब हर्षाये

समय गया कुछ बीते जब, दशरथ किए विचार
राज तिलक करो राम का, रिति नीति अनुसार

मंथरा ने की कुतिलाई, कैकेयी की मति भंग करवाई
गयी कैकेयी कोपभवन वो, माँग लिए दो दिए वचन को
राजतिलक करो भरत लाल की, आज्ञा राम को देश निकाल की
देख कैकेयी का यह रूपा, भूमि गिरे वचन सुनी भूपा

सुनी वचन पितु मात के, राम गये तब आय
रघुकूल रिति घटे नहीं, आज्ञा लिए शिरोधाय

जाने लगे जब रघुवर वन वो, संग चली सिया छोड़ सुखन को
सति सिया रघु की परछाई, धर्म पतिव्रता का है निभाई
पथरी ले पथ पर पग धारे, चले विदेह की ये सुकुमारी
वर्षा धुप सहे दिन रैना, पर हर्षित थे उर और नैना

वन वन घुमे जानकी, राम लखन संग आए
प्रेम त्याग की मुरते, जनक नंदिनी माँ

मन में उमंग लिए, सिया प्रेम रंग लिए
अवधपति के संग, वन वन जाती है
कभी चले नैया वन, तो कभी खिवैया वन
राम के लिए, हर धर्म निभाती है
राज भोग छोड़ के, रूखी सुखी खाई सिया
कभी कभी तो पिके, जल रह जाती है
लाज रघुकूल की है, मर्यादा राम की तो
माता वन लखन पे, ममता लुटाती है
सेवा दिन रात करें, स्वामी श्री राम की तो
श्रद्धा संग सुमन नित, चरण चढ़ाती है

प्रेम सुधा ये रघु की गरिमा, कठिन है वरण सिया की महिमा
समय गये कुछ इत्थन होनी, स्वर्णमृग पर सिया लुभानी
मृग लाने तब गये रघुनंदन, घात लगाये बैठा दशानन
गये लखन जब खिंच के रेखा, उचित अवसर रावण देखा

ब्राह्मन बनकर की चतुराई, भूख प्यास की व्यथा सुनाई
कोमल सरल सिया नहीं जानी, रावण का छल नहीं पहचानी
रेखा लांघी धर्म में पर कर, ले चला रावण मुख बदल कर
रोये सिया सति बहु अकुलाई, कहाँ हो आव हे रघुराई
कोई सिया का नहीं सहायक, ले गया लंका लंकानायक

सोने की लंका सिया, त्याग के रख निज मान
अशोक वाटिका में रही, बचा के स्वाभिमान

करूण व्यथा सिया मात के, सुनी उर्चित लाए।
कितनी पीड़ा सह रही, लंका में वो जाय।

इस्त है मेरी श्री रघुराई, तेरा अंत करेंगे आई।
आर्यपुत्र को तू नहीं जाने, कण-कण उनकी महिमा बखाने।
खीझ गया सुनी सिया का उत्तर, लज्जाहिन चलाधर निकंधर।
निचाचरें जब लगे डराने, परंतु सीता हार ना माने।

पहुँचे कपि लंका तभी, सिया का पता लगाए।
सोने की लंकाक्षण में, हनु ने दिया जलाई।

सिया मुद्रिका कपि ले आई, रघु सम्मुख सब व्यथा सुनाए।
रघुवर ने जब निर्णय लिन्हा, चले संग लिए वानर सेना।

रावण राम का युद्ध भयंकर, साथ राम का दिये विभीषण।
मेघनाथ ने तीर चलाई, लखन गिरे भूमि मुर्छाई।
तुरत ही हनु संजीवनी लाए, लक्ष्मण फिर से जीवित पाए।
इंद्रजीत को लखन संहारे, कुम्भकर्ण को रघुवर मारे।
लंकापति तब रावण आया, राम ने उसपर धनुष उठाया।
सत्य मृत्यु का बताए विभीषण, राम चलाए बाण उदर पर।
धरती गिरा तब आए दशानन, लंकापति कहलाए विभीषण।

जीत राम लंका तब बजी बीच डंका तब,
सति सिया सम्मुख राम के आई है।
पीड़ा वो विरह भरी कैसे कहे वैदेही,
अँसुवन से बस आँख भर आई हैं।
स्वीकार ऐसे तब किये नहीं राम-सीता,
अग्नि के कठिन परीक्षा करवाई है।
सति है पुनीता सिया छू ना पाए पावक,

तभी चारों ओर करूण वेदना सी छाई है।
दिया प्रमाण प्यारे रघु राम जी की,
जयकारा दसों दिशाओं में लगाई में।
हृदय लगाए बस तब जाके वैदेही,
प्रेम परीक्षा सुख के दिन लाई है।

सब वानर से विदा कराई, लौटे अयोध्या तब रघुराई।
माताएँ और भरत शत्रुघ्न, हर्षित मिले राम सिया लक्ष्मण।
राजतिलक भयि राम बनी राजा, मंगल कुशल होए नित काजा।
आनंदित करे राम कहानी, राजा राम सिया महारानी।

बोलो सियावर राम चन्द्र की जय🙏🙏
बोलो अयोध्या नाथ राजा राम चन्द्र की जय।🙏🙏

Suno Avadh Ke Vasiyo Siya Ke Ram Lyrics

Suno Avadh Ke Vasiyo Siya Ke Ram Lyrics

Suno Avadh Ke Vasiyo Siya Ke Ram Lyrics

Suno Avadh Ke Vasiyo
Suno Avadh Ke Vasiyo
Maryada Ka Saar
Purshottam Shri Ram Ki
Kahi Katha Ka Vistaar

Suno Avadh Ke Vasiyo
Katha Ayodhya Ram Ki
Janam Liye Raghuvar Jaha
Unhi Siya Ke Ram Ki
Suno Avadh Ke Vasiyo

Avadh Ke Swami Dashrath Raja
Teen Raniyo Ke Maharaja
Putr Prapti Ke Yagy Karaye
Teen Raniyo Ke Sut Jaaye
Bharat Shtrughan Lakshman Rama
Samaye Hoot Gaye Gurukul Dhama
Guru Vashist Se Shiksha Pai
Khirovastha Ho Gaye Aai

Padhaar Vishvamitr Ayodhya
Ripu Ko Batai Vikat Samasya
Ram Lakhan Chale Van Ko Livai
Taad Ahilya Taadak Maare
Dushto Se Santan Ko Ubare
Guru Sang Phir Videh Padhare

Sita Mata Ka Swayamvar
Tood Diye Shiv Dhanush Shri Raghuvar
Charo Kuwar Ka Vyah Rachai
Janak Avadhpati Sab Harshaye

Samay Gaya Kuch Bitre Jab
Dashrath Kiye Vichar
Raj Tilak Karo Ram Ka
Riti Niti Anusar

Manthra Ne Ki Kutilai
Kaiiikai Ki Mati Bhang Karwai
Gai Kaiikai Koopbhawan Vo
Maang Liye Do Vachan Ko
Rajtilak Karo Bharat Laal Ki
Agya Ram Ko Desh Nikal Ki
Dekh Kaiikai Ka Yah Roopa
Bhumi Gire Vachan Suni Bhoopa

Suni Vachan Pitu Maat Ke
Ram Gaye Tab Aay
Raghukul Riti Gathe Nahi
Agya Liye Shirodhay

Jaane Lage Jab Raghuvar Van Ko
Sang Chali Siya Chhod Sukhan Ko
Sati Siya Raghu Ki Parchaai
Dharm Pativarta Ka Hai Nibhai
Pathri Le Path Par Pag Dhare
Chale Videh Ki Ye Sukumari
Varsha Dhoop Sahe Sin Raina
Par Harshit The Ur Aur Naina

Van Van Ghume Janki
Ram Lakhan Sang Aayee
Prem Tyag Ki Murtee
Janak Nandini Maa

Man Me Umang Liye
Siya Prem Rang Liye
Avadhpati Ke Sang
Van Van Jaati Hai
Kabhi Chale Naiya Van
To Kabhi Khivaiya Van
Ram Ke Liye
Har Dharm Nibhati Hai
Raaj Bhhoj Chhod Ke
Rukhi Sukhi Khai Siya
Kabhi Kabhi To Pike
Jal Rah Jati Hai
Laaj Raghukul Ki Hai
Maryada Ram Ki To
Mata Van Lakhan Pe
Mamta Lutati Hai
Seva Din Raat Kare
Swami Shri Ram Ki To
Shradha Sang Suman Nit
Charan Chadhati Hai

Prem Sudha Ye Raghu Ki Garima
Kathin Hai Varan Siya Ki Mahima
Samay Gaye Kuch Itthan Honi
Swaranmarg Par Siya Lubhani
Mrag Laane Tab Gaye Raghunandan
Ghaat Lgaye Baitha Dashanan
Gaye Lakhan Jab Khich Ke Rekha
Uchit Avsar Raavan Dekha

Vrahaman Bankar Ki Chatrui
Bhookh Pyaas Ki Vyatha Sunai
Komal Saral Siya Nahi Jani
Raavan Ki Chhal Nahi Pehchani
Rekha Laagh Dharm Me Padkar
Le Chala Raavan Mukh Badal Kar
Roye Siya Sati Bahut Akulaai
Kaha Ho Aav Hey Raghurai
Koi Siya Ka Nahi Sahayak
Le Lanka Gaya Lankanayak

Sone Ki Lanka Siya
Tyaag Ke Rakh Nij Maan
Ashok Vatika Me Rahi
Bacha Ke Swabhimaan

Karun Vyathaa Siya Maat Ke,
Suniye Urchit Laay.
Kitni Peeda Seh Rahi,
Lanka Me Wo Jaay.

Isht Hai Meri Shree Raghuraai,
Tera Ant Karenge Aayi.

Aarya Putra Ko Tu Nahi Jaane,
Kan Kan Unki Mahima Bakhaane.
Khij Gayaa Suni Siya Ka Uttar,
Lajjahin Chala Dhar Nikandhar.
Nichachari Sab Lage Daraane,
Parantu Sita Haar Na Maane.

Pahunche Kapi Lanka Tabhi,
Siya Ka Pataa Lagaai.
Sone Ki Lankakshan Mein,
Hanu Ne Diyaa Jalaai.

Siya Mudrika Kapi Le Aaye,
Raghu Sammukh Sab Vyathaa Sunaaye.
Raghuvar Ne Tab Nirnay Linha,
Chale Sang Liye Vaanar Sena.

Ravan Ram Ka Yudhha Bhayankar,
Saath Ram Ka Diye Vibhishan.
Meghnath Ne Teer Chalaayi,
Lakhan Gire Bhoomi Murchhayi.
Turat Hi Hanu Sanjeevani Laaye,
Laxman Phir Se Jeevan Paaye.

Indrajeet Ko Lakhan Sanhaare,
Kumbhkaran Ko Raghuvar Maare.
Lankapati Tab Ravan Aaya,
Ram Ne Uspar Dhanush Chalaaya.

Satya Mrityu Ka Bataaye Vibhishan,
Baan Chalaye Ram Udar Par.
Dharti Gira Tab Aaye Dashaanan,
Lankapati Kehlaaye Vibhishan.

Jit Ram Lanka Tab Baji Bich Danka To,
Siya Sati Sammukh Ram Ke Aayi Hai.

Pida Vo Virah Bhari, Kaise Kahe Vaidehi.
Ansuman Se Bas Aankh Bhar Aayi Hai.
Swikaar Aise Tab Kiye Nahi Ram Sita,
Agni Ke Kathin Parikhaa Karwaayi Hai.

Sati Hai Punita Siyaa,
Chhu Na Paaye Pavak.
Tabhi Chaaron Aur Karoon,
Vedna Si Chhayi Hai.

Diya Praman Praan Pyaare Raghu Ram Ji Ki,
Jaykara Dashon Dishaaon Mein Lagaayi Hai.
Hriday Lagaaye Ram Tab Jake Vaidehi,
Prem Pariksha Sukh Ke Din Laayi Hai.

Sab Vaanar Se Vidaa Karaayi,
Laute Ayodhya Tab Raghuraai.
Mataye Aur Bharat Shatrughan,
Harshit Mile Ram Siya Laxman.
Rajtilak Bhayi Ram Bani Raja,
Mangal Kushal Hoye Nit Kaaja.
Anandit Kare Ram Kahaani,
Raja Ram Siya Mahaarani.

🙏Bolo SiyaVar Ram Chandra Ki Jay🙏,
Bolo Ayodhya Nath Raja Ram Chandra Ki Jay.


हमें उम्मीद है की श्री राम के भक्तो को यह आर्टिकल “सुनो अवध के वासियों सिया के राम लिरिक्स | Suno Avadh Ke Vasiyo Siya Ke Ram Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। ‘Suno Avadh Ke Vasiyo Siya Ke Ram Lyrics‘ भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here