लक्ष्मी का वास हो जिस घर में लिरिक्स | Lakshmi Ka Vaas Ho Jis Ghar Mein Lyrics

धन की देवी माँ लक्ष्मी का भजन “लक्ष्मी का वास हो जिस घर में लिरिक्स | Lakshmi Ka Vaas Ho Jis Ghar Mein Lyrics”अंजलि जैन जी का गाया हुआ है।


Lakshmi Ka Vaas Ho Jis Ghar Mein Lyrics

लक्ष्मी का वास हो जिस घर में उस घर में रोज दिवाली है ॥

तुमसे ही इज्जत मान मिले हर आशाओं का फुल खिले ।
झोली फैलाए जग सारा माता के सभी सवाली है ॥

लक्ष्मी का वास हो जिस घर में उस घर में रोज दिवाली है ॥

लक्ष्मी माता को प्रसन्न करे

खुशियाँ तुझसे तुम बिन गम है किरपा बिन ये आँखे नम है ।
है चाँद सा मुखड़ा माँ तेरा जिसपे सूरज की लाली है ॥

लक्ष्मी का वास हो जिस घर में उस घर में रोज दिवाली है ॥

तेरे चरण जहाँ जाते माता खुशियों से दामन भर जाता ।
जिस जगह पे वास ना तेरा हो सब लगता खाली खाली है ॥

लक्ष्मी का वास हो जिस घर में उस घर में रोज दिवाली है ॥

महिमा तेरी माँ न्यारी है शिवपुरी चरणों का पुजारी है ।
जाते है दिन संवर उनके जिनपे नज़रे माँ डाली है ॥

लक्ष्मी का वास हो जिस घर में उस घर में रोज दिवाली है ॥


हमें उम्मीद है की लक्ष्मी माता के भक्तो को यह आर्टिकल “लक्ष्मी का वास हो जिस घर में लिरिक्स | Lakshmi Ka Vaas Ho Jis Ghar Mein Lyrics” + Video + Audio बहुत पसंद आया होगा। लक्ष्मी भजन “ Lakshmi Ka Vaas Ho Jis Ghar Mein Lyrics” के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये। आप अपनी फरमाइश भी हमे कमेंट करके बता सकते है। हम वो भजन, आरती आदि जल्द से जल्द लाने को कोशिश करेंगे।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment