तू ही मेरी इबादत है तू ही मेरा धरम देशभक्ति गीत लिरिक्स | Tu Hi Meri Ibadat Hai Hain Deshbhakti Geet Lyrics

देशभक्ति गीततू ही मेरी इबादत है तू ही मेरा धरम देशभक्ति गीत लिरिक्स | Tu Hi Meri Ibadat Hai Hain Deshbhakti Geet Lyrics” महेंद्र कुमार जी के द्वारा गाया हुआ है।


Tu Hi Meri Ibadat Hai Hain Deshbhakti Geet Lyrics

तू ही मेरी इबादत है,
है तू ही मेरा धरम,
ऐ वतन मेरे हमदम मेरे,
तू ही मेरा करम,
तू ही मेरा करम,
तु ही मेरी इबादत है,
है तू ही मेरा धरम।।

तुझको ही पुजू और ध्याऊँ मैं,
तेरे ही गीतों को गाउँ मैं,
ऐ वतन वतन मेरे,
तू ही है रब खुदा मेरे,
तुझसे अलग न जी सकूँ,
मर जाऊ मैं सनम,
मर जाऊ मैं सनम,
तु ही मेरी इबादत है,
है तू ही मेरा धरम।।

तू मेरी जन्नत है तू मेरी मन्नत है,
तुझसे ही ये मेरा जीवन है,
तुझमे समा जाऊ तुझपे ही मर जाऊ,
कहता ये हर पल मेरा मन है,
जान मेरी हाजिर है,
सेवा में ही तेरे वतन,
मर जाये ये ‘सुभाष’ तेरा,
करते हुए करम,
करते हुए करम,
तु ही मेरी इबादत है,
है तू ही मेरा धरम।।

तू ही मेरी इबादत है,
है तू ही मेरा धरम,
ऐ वतन मेरे हमदम मेरे,
तू ही मेरा करम,
तू ही मेरा करम,
तु ही मेरी इबादत है,
है तू ही मेरा धरम।।

Tu Hi Meri Ibadat Hai Hain Deshbhakti Geet Lyrics

हमें उम्मीद है की देशभक्तो को यह आर्टिकल “तू ही मेरी इबादत है तू ही मेरा धरम देशभक्ति गीत लिरिक्स | Tu Hi Meri Ibadat Hai Hain Deshbhakti Geet Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। “ Tu Hi Meri Ibadat Hai Hain Deshbhakti Geet Lyrics ” के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here