सौगंध राम की खातें हैं लिरिक्स | Sogandh Ram Ki Khate Hai Lyrics

देशभक्ति गीतसौगंध राम की खातें हैं लिरिक्स | Sogandh Ram Ki Khate Hai Lyrics” प्रकाश माली जी के द्वारा गाया हुआ है।


Sogandh Ram Ki Khate Hai Lyrics

कोटि कोटि हिन्दुजन का,
हम ज्वार उठा कर मानेंगे ।
सौगंध राम की खाते हैं,
भारत को भव्य बनाएंगे ।।

भारत को भव्य बनाएंगे ।।

भ्रष्टाचार से मुक्त हो भारत,
ऐसी अलख जगाएंगे ।
देश द्रोह करने वालो को,
मिलकर सबक सिखाएंगे ।।

हमें अपनी भारत माँ के,
वैभवशाली गीत गूंजाएंगे ।
जो रचे यहाँ आतंकी रचना,
भेंट मौत के चढाएंगे ।।

सोने की चिडिया भारत माँ हो,
ऐसा स्वप्न सजाएंगे ।
सौगंध राम की खातें हैं,
भारत को भव्य बनाएंगे ।।

भारत को भव्य बनाएंगे।।

जन जन के मन में राम रमे,
हर प्राण प्राण मे सीता है ।
कंकर कंकर शंकर इसका,
हर स्वास स्वास मे गीता है ।।

जीवन की धड़कन रामायण,
पग पग पर बनी पुनीता है ।
यदि राम नही है स्वासो मे,
तो प्राणो का घट रिता है ।।

नर नाहर श्री पुरूषोत्तम का,
हम रामराज फिर लाएंगे ।
सौगंध राम की खातें हैं,
भारत को भव्य बनाएंगे ।।

भारत को भव्य बनाएंगे ।।

जो नीती अपावन शासन की,
वह नीती तोड़ कर मांगेगे ।
जो सत्ता पद मे भरा हुआ,
वो कुंभ फोड कर मांगेगे ।।

जो फैल रही है आंगन में,
विष वेल कुचल कर मानेगे ।
जो स्वप्न देखते बाबर के,
अरमान मिटा कर मानेगें

कितना पशुबल है दानव मे,
हम उसे तोल कर मानेगे ।
सौगंध राम की खातें हैं,
भारत को भव्य बनाएंगे

कोटि कोटि हिन्दुजन का,
हम ज्वार उठा कर मानेंगे ।
सौगंध राम की खाते हैं,
भारत को भव्य बनाएंगे ।।

भारत को भव्य बनाएंगे ।।

Sogandh Ram Ki Khate Hai Lyrics

हमें उम्मीद है की देशभक्तो को यह आर्टिकल “सौगंध राम की खातें हैं लिरिक्स | Sogandh Ram Ki Khate Hai Lyrics” + Video +Audio बहुत पसंद आया होगा। “ Sogandh Ram Ki Khate Hai Lyrics ” के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment