Bhajan Jo Prabhuji Ka Karte Rahoge Lyrics


Bhajan Jo Prabhuji Ka Karte Rahoge Lyrics

कृपा नाथ बेशक मिलेंगे किसी दिन
जो सत्संग पथ से गुज़रते रहोगे

भजन जो प्रभुजी का करते रहोगे
तो संसार सागर से तरते रहोगे

चढ़ोगे नज़र में सभी की सदा तुम
जो अभिमान गिरी से उतरते रहोगे

भजन जो प्रभुजी का करते रहोगे
तो संसार सागर से तरते रहोगे

छलक ही पड़ेगा दया सिंधु का दिल
जो दृग बिंदु से रोज भरते रहोगे

भजन जो प्रभुजी का करते रहोगे
तो संसार सागर से तरते रहोगे

Leave a Comment