अंजनी के लाल आछी रे संजीवन बूटी लायो लिरिक्स | Anjani Ke Re Lal Achi Re Sarjivan Buti Layo Lyrics

पवन पुत्र हनुमान जी का अति पावन भजन “अंजनी के लाल आछी रे संजीवन बूटी लायो लिरिक्स | Anjani Ke Re Lal Achi Re Sarjivan Buti Layo av Chali Lyrics” – बजरंग दास वैष्णव जी के द्वारा गाया गया है। इस भजन में श्रीराम के सबसे बड़े भक्त हनुमान जी की राम भक्ति बताया गया है।


Anjani Ke Re Lal Achi Re Sarjivan Buti Layo Lyrics

राम चंद्र को दूत कहायो,
जग में नाम कमायो रे ।
अंजनी का रे लाल,
पवना का रे लाल आछी रे सरजीवण बूटी लायो ।।

मात सिया को पतों लगाने तू लंका में आयो,
बजरंग तू लंका में आयो ।
वृक्ष उजाड़या बाग़ उजाड़या,
रावण बहु घबरायो रे ।।

अंजनी का रे लाल,
पवना का रे लाल ।
आछी रे सरजीवण बूटी लायो ।।

शक्ति बाण लाग्यो लक्मण जी के,
तू ने बिडलो उठायो ।
बजरंग तू ने बिडलो उठायो,
द्रोणागिरी पर्वत पर जाकर सरजीवण ले आयो रे ।।

अंजनी का रे लाल,
पवना का रे लाल ।
आछी रे सरजीवण बूटी लायो ।।

राम लखन दोनों भाई ने,
अहिरावण हर लायो ।
बजरंग अहिरावण हर लायो,
पाताल पूरी में जाकर हनुमत भारी युद्ध मचायो रे ।।

अंजनी का रे लाल,
पवना का रे लाल ।
आछी रे सरजीवण बूटी लायो ।।

सतयुग त्रेता द्वापर कलयुग,
चार जुगा जग गायो ।
बजरंग चार जुगा जग गायो,
चन्द्रसखी सतगुरु की शरणे चुनीलाल कथ गायो रे ।।

अंजनी का रे लाल,
पवना का रे लाल ।
आछी रे सरजीवण बूटी लायो ।।

राम चंद्र को दूत कहायो ।
जग में नाम कमायो रे ।।

अंजनी का रे लाल,
पवना का रे लाल ।
आछी रे सरजीवण बूटी लायो ।।


हमें उम्मीद है की श्री राम के भक्त हनुमान जी ये भजन का यह आर्टिकल “अंजनी के लाल आछी रे संजीवन बूटी लायो लिरिक्स | Anjani Ke Re Lal Achi Re Sarjivan Buti Layo Lyrics” + Video + Audio बहुत पसंद आया होगा। “Anjani Ke Re Lal Achi Re Sarjivan Buti Layo Lyrics” भजन के बारे में आपके क्या विचार है वो हमे कमेंट करके अवश्य बताये।

सभी प्रकार के भजनो के lyrics + Video + Audio + PDF के लिए AllBhajanLyrics.com पर visit करे।

Leave a Comment